Saturday, October 24, 2015

अब ओछी राजनीति छोड़ सृजन को समर्पण की बात करो

अब ओछी राजनीति छोड़ सृजन को समर्पण की बात करो
====================================
रचनाकारों को ओछी राजनीति छोड़ अकादेमी कार्यकारणी समिति में हुए निर्णयों का सम्मान करना चाहिए। किसी कृति पर पुरस्कार सामाजिक स्वीकृति का सामूहिक दस्तावेज होता है। उसकी गरिमा होती है जिसे बनाए रखने की जिम्मेदारी लेखकों की है। जनता के सामने आ गया है कि साहित्य क्या है और उसकी राजनीति क्या है? दो नावों पर सवार होने की बजाय पहली शर्त रचनात्मक साहित्य के प्रति समर्पण रहे तो बेहतर।
- नीरज दइया
(दैनिक भास्कर, बीकानेर / शनिवार 24 अक्टूबर, 2015 / पृष्ठ 16 पर प्रकाशित अभिमत)
यह सराहनीय है कि साहित्य अकादेमी ने बढ़ती असहिष्णुता की निंदा कर रचनाकारों की सामूहिक भावनाओं को अभिव्यक्ति किया है, साथ ही पुरस्कार वापिस ग्रहण की अपील भी अनुकरणीय है। लेखकों को भारतीय भाषाओं के वरिष्ठ रचनाकारों की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए। उज्ज्वल पक्ष की कीर्ति और निंदनीय पक्ष का विरोध प्रदर्शन ही साहित्य का उद्देश्य रहा है, इसी की पूर्ति हेतु कलमकारों को जनभावनाओं के अनुरूप सक्रिय लेखन कर समाज के नई दिशा देने की मुहिम तेज करनी चाहिए। आज के दौर में जहां संवेदनाओं का ह्रास हो रहा है तो हमें हमारे पाठकों के भीतर भारतीयता की भावना को प्रेरित-प्रोत्साहित करने की आवश्यकता को समझना चाहिए।
- नीरज दइया
 @ Navjyoti Bikaner

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 31 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

Google+ Followers