Latest Posts

Sunday, January 27, 2019

बच्चों से जुड़ी समस्याओं का निरूपण / डॉ. नीरज दइया

बाल साहित्य की सुपरिचित हस्ताक्षर सुकीर्ति भटनागर के नए संग्रह- ‘पोहे वाली दादी’ में छह कथाएं हैं। संग्रह की अंतिम और शीर्षक कहानी ‘पोहे वाली दादी’ की सौम्या डॉक्टरी की प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने अपने पिता से साथ चंडीगढ़ गई जहां न तो उनका कोई संबंधी था और न ही जान-पहचान वाला। वहीं उसे पोहे वाली दादी मिली और वह अनजान बंधनों में बंधी इस कहानी में डॉक्टर बनकर बिना बताए दादी से मिलने चंड़ीगढ़ जाती है। जहां उसे मालती आंटी से पता चलता है कि दादा-दादी तो वहां नहीं है, वे अपने बेटे-बहू के साथ अमेरीका चले गए हैं और उनका यह घर बिकने वाला है। डॉक्टर सौम्या का मुहबोली दादी का घर खरीदने और वहां निजी क्लीनिक खोलने का उत्तम विचार है।
    ‘पोहे वाली दादी’ कहानी को लेकर कुछ संकाएं हैं। बड़े-बूढ़े और युवा आदि पात्र बाल कहानियों में हो सकते हैं किंतु यह विचार करना जरूरी है कि कोई बाल कहानी कैसे बनती है और कैसे वह उस श्रेणी से बाहर होती नजर आती है। यहां कहानी को जिस फ्लैश-बैक अंदाज में रचा गया है और जिस मनोविज्ञान से व्यंजनाएं उभारने का प्रयास है वह वालको के लिए ग्राह्य नहीं है। हां यह किशोर साहित्य की परिसीमा में तो रखा जा सकता है कि वे इस कहानी का संदेश आत्मसात कर सकें। संबंधों की नई परिभाषाएं गढ़ती इस कहानी में वतर्मान संदर्भों से तुलना करें तो अविश्वसनीयता नजर आएगी। इस बदलती दुनिया में पोहे वाली दादी या दादा चंड़ीगढ़ या कहीं अन्यत्र मिलना बेहद कठिन है। स्वार्थों से भरी इस दुनिया में ऐसी कल्पनिक दुनिया जरूर सुखदायक है। कहानी में दादी का एक पत्र भी उल्लेखित हुआ है। पत्र का समापन तो किताब में दृश्यगत है किंतु आरंभ के लिए पाठकों को सोचना-विचारना होगा। फिर दादा-दादी से सौम्या फोन पर बाद में भी बातें करती थी तब ऐसे पत्र का क्या औचित्य रह जाता है।
    कहानी ‘मन की बात’ में सात वर्ष की नवधा की मनोग्रंथी का निदान उसकी बुआ तरला के माध्यम से दिखाया गया है। माता पिता का लड़के-लड़की में फर्क करना और अंत में पिता का अपनी बहन के ब्लॉग से मन की बात शीर्षक का आलेख पढ़ कर अपनी पत्नी को पढ़वाना और दोनों का हृदय-परिवर्तन किसी आश्चर्य से कम नहीं है। आश्चर्य तो इस बात का भी है कि बाल साहित्य के क्षेत्र में सोलह कहानी संग्रह सुकीर्ति भटनागर के प्रकाशित हो चुके हैं ऐसा पुस्तक के अंत में उनके परिचय में दिया गया है और तब भी इस कहानी में वे बाल मनोविज्ञान से संबंधित आलेख और बाल कहानी में अंतर नहीं कर पा रही हैं। निसंदेह यहां एक बहुत बड़ी समस्या का निरूपण किया गया है किंतु इसे बाल कहानी कहना उनकी जिद्द है। इस कहानी का एक अंश देखें- ‘अब वह तीन-चार वर्ष का हो गया था और स्कूल जाने लगा था। पर पढ़ने में उसकी तकिन-सी भी रुचि नहीं थी। जब कभी पढ़ाई की बात को लेकर नवधा से उसकी तुलना की जाती तो वह बुरी तरह चिढ़ जाता और ”नवा गंदी है, नवा गंदी है” कहते हुए रो-रो कर सारा घर आसमान पर उठा लेता, उसकी कापियां-किताबें फाड़ देता, पर उसे समझाने या टोकने के स्थान पर मम्मी उसे पुचकारते हुए कह देती, “अरे बेटा, अभी तो आप छोटे हैं न, पर थोड़े बड़े हो जाने पर दीदी से कहीं अधिक अच्छे नम्बर आएंगे आपके, क्योंकि आप बहुत समझदार हैं।” तब मम्मी की ऐसी चिकनी-चुपड़ी बातें सुन वह फूल कर कुप्पा हो जाता।” (पृष्ठ-51)
    इसी भांति ‘स्टोर रूम’ कहानी में लेखिका हम बड़ों और बच्चों के अभिभावकों को संदेश देती है कि बाल साहित्य के स्थान पर बच्चों को ‘मनोहर कहानियां’ पढ़ने को नहीं देना है। घर में ऐसी पत्रिकाएं छिपा कर रखनी है अन्यथा बच्चे स्टोर रूप में जाकर चुपके चुपके पढ़ेंगे और मनोरोगों के शिकार बनेंगे। संग्रह में एक बाल कहानी ‘कहानी’ शीर्षक से है जिसमें एक मां कहानी लिखने के विषयों पर बात कर रही है। कहानी के अंत में घर के बच्चे बड़े समझदार हो गए हैं कि घर की नौकरानी की बिटिया को स्कूल पढ़ने के बड़े बड़े त्याग करते हैं। इस कहानी का एक अंश देखें- “और मां, मैं सोच रहा हूं कि अपने जन्मदिन पर बहुत महंगे कपड़े न खरीद कर साधारण कपड़े ही खरीदूं। न भी खरीदूं तो भी चलेगा। स्वयं पर पैसे खर्चने की अपेक्षा मंगला दीदी के लिए ही एक स्कूल ड्रेस और बनवा दें तो अच्छा रहेगा। उनका तो बस्ता भी बहुत पुराना और गंदा-सा है, वह भी नया होना चाहिए।” “आप तो बहुत ही समझदार हैं भाई। यदि हम कुछ ऐसा ही करते रहें तो मंगला दीदी भी हमारी तरह स्कूल जाती रहेंगी। पढ़ना तो बहुत अच्छी बात है न, इससे जीवन संवरता है। ऐसा हमारी टीचर दीदी कहती हैं, क्यों मां?” “हां बेटी, आपकी टीचर दीदी बिल्कुल सही कहती है। जैसे हमारे स्वास्थ्य के लिए खाना-पीना, सोना-जागना आवश्यक है, वैसे ही जीवन को सही ढंग से जीने और सोद्देश्यपूर्ण बनाने के लिए शिक्षित होना भी आवश्यक है।’ (पृष्ठ-44)
    ऐसी बड़ी-बड़ी बातों की कहानियों के बीच दो कहानियां ‘आलू पुराण’ और ‘सपने’ भी हैं। बाल कहानियों को जिन बाल मनोविज्ञान के साथ निर्वाह करना होता है उसकी एक झलक ‘सपने’ कहानी में मिलती है। एक छोटी बच्ची के सपने उसकी अपनी आंखों से यहां लेखिका ने बेहद मार्मिक ढंग से चित्रित किए हैं। दो परिवारों को बीच अर्थ के कारण स्थितियों का अंतर और समायोजन का सुंदर निरूपण इस कहानी में मिलता है। इसी भांति ‘आलू पुराण’ में आलू चिप्स के आविष्कार जॉर्ज स्पेक के विषय में जानकारी को कहानी में गूंथा गया है।
    पुस्तक के आंरभ में लेखिका ने तीन पृष्ठों का एक खत अपनी बात ‘जीवन की मार्गदर्शक : सकारात्मक सोच’ शीर्षक से दिया है। प्यारे बच्चों को संबोधित इस पत्र में लेखिका बच्चों को कहानियों में क्या कहा गया है समझा रही हैं। बाल साहित्य में बेहतर होगा कि हम बच्चों को समझाने के स्थान पर उनकी खुद की समझ और समझने के कुछ उदाहरण कहानियों में चित्रित करें, जैसा कि कहानी ‘सपने’ में लेखिका ने किया भी है। इक्कीसवीं सदी में इस दौर में हम बच्चों से जुड़ी समस्याओं का निरूपण अपने किसी आलेख में करेंगे और बाल कहानियों के विषय में आज की आवश्यकताओं को समझने का प्रयास भी करेंगे।
समीक्षक : डॉ. नीरज दइया
पुस्तक : पोहे वाली दादी (बाल कथा-संग्रह)
कहानीकार : सुकीर्ति भटनागर
प्रकाशक  : साहित्यसागर प्रकाशन, धमाणी मार्केट की गली, चौड़ा रास्ता, जयपुर-302 003
संस्करण : 2019, पृष्ठ : 84
मूल्य : 160/-

Saturday, January 26, 2019

राजस्थानी कवितावां / डॉ. नीरज दइया



(आदरणीय भाई श्री रविदत्त मोहता के साथ)


ऊमर रा धोरिया
(१.)
टाबर खुद रै मूढै
मांडै मूंछ्यां
करै कोड
फदाकणा चावै-
ऊमर रा धोरिया।
#

(२.)
लागै सगळा नैं
घणो व्हालो
रूपाळो हुवणो
बैन थथेड़ै पोडर,
कोई कोनी पोतै-
काळख।
#

(३.)
धोळै केसां माथै
लगावै खिजाब
बड़ोडा भाइसा
देखै- मूछां
कठैई रैय नीं जावै-
चांदी।
#

(४.)
कुण चढणो चावै
बूढ़ापै मांय घाटी
एक औसथा पछै-
ना चढनो सोखो
ना उरणो
थमणो ई ओखो....
#

(५.)
हाथ मांय हुवै
ऊमर री रेखा
पण
हाथ मांय
हुवै कोनी-
ऊमर !
#

(६.)
ऊमर रा धोरिया
लंघता-लंघता
जाणै जूण रमै
कोई रम्मत
मिल सकै कदैई
थांनैं-म्हांनैं
का उणनैं-
खो !
#

(७.)
आभै मांय-
आवै सूरज
आवै चांद
आवै नौलख तारा
अर
नित गुड़कता दीसै...
#

(८.)
जूण रो
जूगा जूनो साच-
ऊगै जिको आथमै
रंग है थनैं-
सूरज नैं आथमता देख्यां ई
कोनी बापरै चेत !
#

(९.)
लीर -लीर हुयां पछै ई
कारी-कुरपी
कीं जाचो जचा सकै...
आधो का चौथाई
भरियां ई पेट
कीं धाको धिक सकै...
पण जद सांस सांस नैं
देवण लागै धोखो
कोई पण जूण
धोरिया मांय धस जावै।
#

(१०.)
‘थूं कैवतीं ही नीं’
‘कांई कैवतीं ही’
‘थनै याद कोनी’
‘कै कैवण-सुणण रो कांई,
कोई टैम हुवै...’
‘वा इण मांय
टेम कांई
अर बेटेम कांई’
‘कूड़ी-साची करता-करता
कटगी घणखरी तो जूण’
‘बाकी री कट जासी’
‘इसो कुण है
जिको ऊमर रै धोरिया
चढण सूं नट जासी?’
#

(११.)
ऊमर रा धोरिया
जद ढळ जावै
मोरिया नाचै कोनी
हम्बै, मोरिया
अर कोनी नाचै !
आ कदैई हुया करै के !
#

(आकाशवाणी, बीकानेर से दिनांक 22-01-2019 को प्रसारित)

Tuesday, January 08, 2019

‘पांडेय जी की हाय-तौबा’ (2018) लालित्य ललित

    आपके हाथों में जो किताब है उसके लेखक श्री लालित्य ललित मेरे मित्र हैं। हमारी मित्रता की प्रगाढ़ता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि मुझे उन्होंने अपनी रचनाएं भेजते हुए संग्रह की भूमिका के साथ इसके नामकरण का भी अनुरोध किया है। मैं लेखन के मामले में बचपन से ही पूरी तरह से स्वत्रंत रहा हूं। अब जब लेखन में कुछ नाम और बदनाम हो जाने के बाद पाता हूं कि लिखता तो मैं भी हूं पर लालित जी तो खूब लिखते हैं। क्या आप प्रतिदिन व्यंग्य लिखने को सरल काम समझते हैं? मैं तो नहीं लिख सकता और इसे बहुत कठिन काम मानता हूं। इस लिहाज से और वैसे भी मैं खुद को लालित्य ललित से छोटा व्यंग्यकार मानता हूं। मैं इस संसार में लालित्य से पहले आया और वे भी बिना देरी किए मुझसे सवा साल बाद आ गए। इसलिए मैंने भी उनसे सवा साल बाद हिंदी व्यंग्य के क्षेत्र में पदार्पण किया था।
    दुनिया में बहुत सी बातें समझ नहीं आती। वैसे साहित्य में छोटा-बड़ा क्या होता है? व्यंग्यकार तो कुछ अलग दृष्टि रखता है इसलिए उसे सब कुछ या तो बड़ा-बड़ा दिखाई देता है या फिर छोटा-छोटा। उसे जो जैसा है उसे देखने में जरा संकोच होता है। जैसे निंदक का स्वभाव निंदा करना होता है वैसे ही व्यंग्यकार के स्वभाव में मेन-मेख का भाव समाहित हो जाता है। प्रत्यक्ष में इसे मैं संयोग ही कहूंगा पर सोचता हूं कि उन्होंने इतने मित्रों में मेरा चयन क्यों किया? यह मीन-मेख का स्वभाव ही है। मित्र पर शक-संका करना भला मित्र धर्म है क्या? पर मित्रों में झूठ भी अपराध है। इसलिए सब कुछ बताना ठीक है। मैं चिंता में हूं। मेरे पास इस चिंता के अलावा भी अनेक चिंताएं हैं। कुछ चिंताएं आपसे साझा करना चाहता हूं। मेरी चिंता है कि पहले व्यंग्य लेखन बहुत कठिन काम समझा जाता था, हर कोई लेखक व्यंग्य लिखने की हिम्मत नहीं करता था। अब जब से हमारी पीढ़ी यानी लालित्य ललित और मेरे जैसे लेखकों ने इस विधा में सक्रिया दिखाई है तभी से इसे बहुत सरल समझा कर बहुत से लेखक व्यंग्यकार बनने का प्रयास करने लगे हैं।
    वैसे अपनी जमात के लिए यह कहना ठीक नहीं है कि व्यंग्यकार टांग खींचने के मामले में बदनाम हैं। वे अनेक ऐसी युक्तियां जानते हैं कि छोटों को बड़ा और बड़ों को छोटा बनाते में लगे रहते हैं। मैं कोई ठीक बात लिखूंगा तब भी उसे किसी भी रूप में लेने और समझने के लिए सब स्वयं को स्वतंत्र समझते हैं। मैं कह देता हूं कि आपकी स्वतंत्रता का यह अर्थ कदापि नहीं है कि मेरी सीधी और सरल बात को आप गंभीर और कुछ ऐसी-वैसी समझने की भूल करें। देखिए लोग कीचड़ को देखकर बच कर निकलने का प्रयास करते हैं। स्वच्छता अभियान के इस दौर में भला कीचड़ और गंदगी को गले लगना कहां की समझदारी है। व्यंग्यकार तो जैसे बिना नियुक्ति के स्वच्छता अभियान के कार्यकर्ता हैं, जो जरा गंदगी या फिर कीचड़ दिखते ही झटते हैं। वे कलम हाथ उठाए ही रखते हैं। आज लिखा कल छपा के इस दौर में रचना को अधिक पकाने का काम हम नहीं करते हैं। इतना समय ही हमें कहां मिलता हैं और वैसे भी हमारा एक हाथ तो सदा पत्थरों से भरा रहता है। जहां कीचड़ दिखाता है वहीं पत्थर फेंक निशाना साधते हैं। कभी तो कुछ छींटे हमरे पर आ गिरते हैं और नहीं गिरते तो हम खुद ही थोड़े कीचड़ से सना हुआ दिखते हैं जिससे लगे कि हम यर्थाथ के धरातल पर हैं। अगले दिन हमारा वह अचूक निशाना अखबारों की शोभा बनता है। हमें निरंतर प्रकाशित होना बहुत अच्छा लगता है।  
    अन्य विधाओं की तुलना में भाषा का सर्वाधिक प्रखर और प्रांजल प्रयोग व्यंग्य विधा में संभव है। मुझे तो ऐसा प्रतीत होता है कि पूरी दुनिया की विसंगतियां, फोड़े, फुंसिया, घाव, मवाद, गंदगी, कीचड़ आदि जो कुछ भी है उन के पीछे व्यंग्यकार नश्तर लिए पड़े हुए हैं। हम दुनिया को सुंदर बनाने का स्वप्न लिए हुए, जगह-जगह घाव कर रहे हैं और कहीं-कहीं गहरे तक चीर-फाड़ करते हुए सब कुछ ठीक करने में लगे हुए हैं। किंतु इतना काम करने के बाद भी ढाक के वही तीन पात।
    भूमिका का मतलब भूमिका होता है और इसलिए मैंने इतनी लंबी-चौड़ी भूमिका बनाई है। अब असली मुद्दे पर आना चाहिए। बहुत सी भूमिकाएं और प्रवचन मैंने और अपने ऐसे देखें है जिन में बहुत बड़ी-बड़ी बातें होती है पर मुख्य बात किताब और किताब के लेखक को बहुत कम महत्त्व देते हैं। मैं ऐसा करने की भूल नहीं कर सकता हूं। इसलिए मैंने अब तक बिल्कुल छोटी-छोटी मामूली बातें की है और अब गंभीर बात करने जा रहा हूं।
    इक्कीसवीं सदी के व्यंग्यकारों में लालित्य ललित बेशक शरीर से भारी-भरकम दिखाई देते हो, किंतु उनकी रचनात्मक तीव्रता किसी तेज धावक सरीखी है। वे उम्र के अर्द्ध शतक के पास हैं और लिखने वाले हाथ में इतनी तेजी है कि ‘की-पेड’ भी उन्हें बहुत बार कहता होगा- ‘भाई साहब जरा धीरे, मैं तो मशीन हूं।’ यह बहुत हर्ष और गर्व का विषय है कि लालित्य आधुनिक तकनीक के मामले में बहुत आगे और तेज है। वे बहुत जल्दी किसी भी घटनाक्रम को रचना को शब्दों से साधते हुए द्रुत गति से दुनिया के सुदूर इलाकों में इंटरनेट के माध्यम से पहुंचने की क्षमता रखते हैं। 
    जैसा कि मैंने पहले स्पष्ट कर दिया कि मैं कहने-सुनने के मामले में बिल्कुल साफ हूं और साफ मन से आपको स्वतंत्रता देना पसंद नहीं करता। मैं दुवा करता हूं कि मशीनों के बीच हमारे व्यंग्यकार भाई लालित्य ललित की अंगुलियां ‘की-पेड’ जैसी किसी मशीन में ना तब्दील हो जाए। यहां एक खतरे का अहसास है कि हिंदी में सर्वाधिक तेजी से अधिक व्यंग्य लिखने वाले लेखकों में शामिल होना बहुत अपने आप में चुनौति भरा है। इसमें बहुत हुनर और होशियारी चाहिए। इन और ऐसी अनेक विशेषाओं के बारे में आप कुछ भी कहें पर मैं तो ललित-मित्र-धर्म में बंधा, उन्हें अव्वल कहता हूं। दीवानगी की हद तक लालित्य ललित को पांडेय जी का पीछा करते हुए मैंने देखा है। उन्होंने पांडेय जी को इतना फेमस कर दिया है कि पांडेय जी पर उनका कॉपीराइट हो चुका है। अब सबको पांडेय जी को बिल्कुल छोड़ देना चाहिए। मैं या अन्य कोई व्यंग्यकार अपने व्यंग्य में किसी दूसरे पांडेय जी को भी लाएंगे तो पाठक यही सोचेंगे कि लालित्य ललित वाले पांडेय जी को चुरा कर लाएं हैं। पांडेय जी इस असंवेदनशील होती दुनिया में संवेदनशीलता की एक मिशाल है। मेरे कहने का अभिप्राय यह है कि व्यंग्यकार में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण संवेदनाशीलता ही होती है, जिसे देखा-समझा जाना चाहिए।
    “किसी पर ऐसे मजाक कर जाना, जो किसी को चुभे भी नहीं और अपना काम भी कर जाए।” यह आत्मकथन हमें लालित्य ललित के उनके पहले व्यंग्य संग्रह के लिए लिखे आरंभिक बयान ‘मेरी व्यंग्य-यात्रा’ में मिलता है। उनके तीनों व्यंग्य-संग्रह ‘जिंदगी तेरे नाम डार्लिंग’ (2015), ‘विलायतीराम पांडेय’ (2017) और ‘पांडेय जी की हाय-तौबा’ (2018) इस आत्मकथन पर एकदम खरे उतरते हैं। यह कथन उनकी इस यात्रा की संभवानाओं और सीमाओं का भी निर्धारण करने वाला कथन है। यहां यह भी उल्लेख आवश्यक है कि उनके पहले दोनों व्यंग्य संग्रहों की भूमिका प्रख्यात व्यंग्यकार प्रेम जनमेजय ने लिखी हैं और तीसरे व्यंग्य संग्रह की भूमिका प्रेम से मैंने लिखी है। जनमेजय जी ने प्रशंसात्मक लिखते हुए अंत में एक रहस्य उजागर कर दिया कि वे नए व्यंग्यकार लालित्य ललित के प्रथम व्यंग्य संग्रह का नई दुल्हन जैसा स्वागत कर रहे हैं। ‘उसकी मुंह-दिखाई की, चाहे कितनी भी काली हो, प्रशंसा के रूप में शगुन दिया और मुठभेड़ भविष्य के लिए छोड़ दी। ललित यदि इस प्रशंसा से कुछ अधिक फूल गए तो यह उनके साहित्यिक स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होगा।’
    जाहिर है कि अब मुठभेड़ होनी है और यह भी देखा जाना है कि उनका साहित्यिक स्वास्थ्य फिलहाल कैसा है क्यों कि उनका दूसरा और तीसरा व्यंग्य संग्रह भी आ गया है। विलायतीराम पांडेय लालित्य ललित का प्रिय और पेटेंट पात्र है। इन पांडेय जी की भूमिका में कभी उनमें लालित्य ललित स्वयं दिखाई देते हैं और कभी वे अनेकानेक पात्रों-चरित्रों को पांडेय जी में आरोपित कर देते हैं। यहां यह कहना उचित होगा कि पूर्व की भांति इस व्यंग्य संग्रह में भी लालित्य ललित ने व्यंग्य के नाम पर कुछ जलेबियां पेश की है। व्यक्तिगत जीवन में वे स्वाद के दीवाने हैं और संग्रह के अनेक व्यंग्य पांडेय जी के इसी स्वाद के रहते स्वादिष्ट हो गए हैं। आपके निजी भाषिक अंदाज और चीजों के साथ परिवेश के स्वाद की रंगत और कलाकारी अन्य व्यंग्यकारों से अलग है।
    लालित्य ललित कवि के रूप में भी जाने जाते हैं और संख्यात्मक रूप से भी आपकी कविताओं की किताबों का आंकड़ा मेरे जैसे कवि को डराने वाला है। उनके कवि-मन के दर्शन पांडेय जी में हम कर सकते हैं। लालित्य ललित कवि हैं और गद्य को कवियों का निकष कह गया है। निबंध गद्य का निकष कहा जाता है, इसमें व्यंग्य को भी समाहित कर विशेष माना जाना चाहिए।
    लालित्य ललित के व्यंग्य की तुलना किसी अन्य व्यंग्यकार ने इसलिए नहीं की जा सकती कि उन्होंने निरंतर एक शैली विकसित करने का प्रयास किया है। उनके व्यंग्य मुख्य धारा से अलग अपने ही तरह के व्यंग्य कहे जाते हैं। पांडेय जी की अनेक रूढ़ताओं में मौलिकता और निजताएं भी हैं। प्रस्तुत व्यंग्य संग्रह में भी उनके व्यंग्यकार का स्वभाव पुष्ट होते हुए स्थितियों को एक दूसरे से जोड़ते हुए बीच-बीच में हल्की-फुलकी चुहलबाजी का रहा है। कहीं पे निगाहें और कहीं पर निशाना का भाव उनके व्यंग्य पोषित करते हैं। जैसा कि वे कवि हैं और सौंदर्य पर मुग्ध होने का उनका स्वभाविक अंदाज जैसा की वे चाहते हैं कि कोई बात किसी को चुभे नहीं की अभिलाषा पूरित करता है। उनके पांडेय जी के सभी अंदाज चुभने और अखरने वाले नहीं है। उनका हल्के-हल्के और प्यारे अंदाज से चुभना अखराता नहीं है।
    विलायतीराम पांडेय सर्वगुण सम्पन्न है कि वे किसी फिल्म के हीरो की भांति कुछ भी कर सकते हैं। वे जब कुछ भी करते हैं तब उनकी सहजता नजर आती है किंतु उसमें व्यंग्यकार का हस्तक्षेप अखरने वाला भी रहता है। लालित्य ललित की यह विशेषता है कि वे विभिन्न रसों से युक्त परिपूर्ण जीवन को व्यंग्य रचनाओं में अभिव्यक्त करते हैं। अनेक वर्तमान संदर्भों-स्थितियों को उकेरते हुए वे बहु-पठित, शब्दों के साधक, कुशल वक्ता, कुशाग्र बुद्धि होने का अहसास कराते हैं।
    इस संग्रह का उनका मुख्य पात्र विलायतीराम पांडेय उनके पहले दोनों संग्रहों में सक्रिय रहा है और यहां तो उनकी हाय-तौबा देखी जा सकती है। नाम- विलायतीराम पांडेय, पिता का नाम- बटेशरनाथ पांडेय, माता का नाम- चमेली देवी, पत्नी- राम प्यारी यानी दुलारी और दोस्त- अशर्फीलाल जैसे कुछ स्थाई संदर्भों यानी आम आदमी से व्यंग्यकार देश-दुनिया और समाज का इतिहास लिपिबद्ध करता है। यहां आधुनिकता की चकाचौंध में बदलते जीवन की रंग-बिरंगी झांकियां और झलकियां हैं। हमारे ही अपने सुख-दुख और त्रासदियों का वर्णन भी पांडेय जी के माध्यम से हुआ है। कहना होगा कि लालित्य ललित मजाक मजाक में अपना काम भी कर जाते हैं। यह उनकी सीमा है कि उनके व्यंग्य का मूल केवल कुछ पंक्तियों में समाहित नहीं होता है, किंतु यह उनकी खूबी है कि उनके व्यंग्य का वितान जीवन के इर्द-गिर्द व्यापकता के साथ दिखाई देता है। स्वार्थी और मोल-भाव करने वाले प्राणियों के बीच नायक विलायतीराम पांडेय इस दुनिया को देख-समझ रहे हैं अथवा दिखा-समझा रहे हैं। यहां एक चेहरे में अनेक चेहरों की रंगत है। सार रूप में कहा जाए तो एक बेहतर देश और समाज का सपना इन रचनाओं में निहित है।
    संग्रह में विषय-विविधता के साथ समसामयिक स्थितियों से गहरी मुठभेड है। साहित्य और समाज के पतन पर पांडेय जी चिंतित हैं। जनमानस की बदलती प्रवृतियों और लोक व्यवहार को रेखांकित करते हुए वे कुछ ऐसे संकेत छोड़ते हैं जिन्हें पाठकों को पकड़ना है। उनका हर मजाक अहिंसक है। लालित्य ललित अपने गद्य-कौशल से किसी उद्घोषक की भांति किसी भी विषय पर आस-पास के बिम्ब-विधानों से नए रूपकों को निर्धारित करने का प्रयास करते हैं। पांडेय जी उनके और हमारे लिए सम्मानित नागरिक है और होने भी चाहिए। वे यत्र-तत्र ‘नत्थू’ बनने की प्रविधियों से बचाते हुए सम्मानित जीवन जीना चाहते हैं। वे परंपरागत उपमानों के स्थान पर नए और ताजे उपमान प्रयुक्त करते हैं। बाजार की बदलती भाषा और रुचियों से उनके व्यंग्य पोषित हैं।
    लालित्य ललित के व्यंग्य अपनी समग्रता और एकाग्रता में जो प्रभाव रचते हैं, वह प्रभावशाली है। ऐसा भी कहा जा सकता है कि वे पृथक-पृथक अपनी व्यंजनाओं से हमें उतना प्रभावित ना भी करते हो किंतु समग्र पाठ और सामूहिकता में निसंदेह पांडेय जी एक यादगार बनकर स्थाई प्रभाव पैदा करते हैं। विविध जीवन-स्थितियों से हंसते-हंसाते मुठभेड करने वाले एक स्थाई और यादगार पात्र पांडेय जी हर मौसम हर रंग में सक्रिय है और उनको हम नहीं भूल सकेंगे। अंत में बधाई और शुभकामनाएं।
डॉ. नीरज दइया

लालित्य ललित की व्यंग्य-यात्रा / डॉ. नीरज दइया

     “किसी पर ऐसे मजाक कर जाना, जो किसी को चुभे भी नहीं और अपना काम भी कर जाए।” यह आत्मकथन हमें लालित्य ललित के पहले व्यंग्य संग्रह के लिए लिखे उनके आरंभिक बयान ‘मेरी व्यंग्य-यात्रा’ में मिलता है। उनके दोनों व्यंग्य संग्रह ‘जिंदगी तेरे नाम डार्लिंग’ (2015) और ‘विलायतीराम पांडेय’ (2017) इस आत्मकथन पर एकदम खरे उतरते हैं। यह कथन उनकी इस यात्रा की संभवानाओं और सीमाओं का भी निर्धारण करने वाला है। यहां यह भी उल्लेख आवश्यक है कि दोनों व्यंग्य संग्रह की भूमिका प्रख्यात व्यंग्यकार प्रेम जनमेजय ने लिखी है। जनमेजय ने प्रशंसात्मक लिखते हुए अंत में रहस्य उजागर कर दिया कि वे नए व्यंग्यकार लालित्य ललित के प्रथम व्यंग्य संग्रह का नई दुल्हन जैसा स्वागत कर रहे हैं। ‘उसकी मुंह-दिखाई की, चाहे कितनी भी काली हो, प्रशंसा के रूप में शगुन दिया और मुठभेड़ भविष्य के लिए छोड़ दी। ललित यदि इस प्रशंसा से कुछ अधिक फूल गए तो यह उनके साहित्यिक स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होगा।’ जाहिर है कि अब मुठभेड़ होनी है और यह भी देखा जाना है कि उनका साहित्यिक स्वास्थ्य फिलहाल कैसा है क्यों कि उनका दूसरा व्यंग्य संग्रह भी आ चुका। दूसरे संग्रह ‘विलायतीराम पांडेय’ में भूमिका लिखते हुए प्रेम जनमेजय ने ‘दिवाली का सन्नाटा’ व्यंग्य रचना को लालित्य ललित की अब तक की रचनाओं में सर्वश्रेष्ठ कहा है। पहले व्यंग्य संग्रह को अनेक आरक्षण दिए जाने के उपरांत दूसरा संकलन जिस कठोरता और किंतु-परंतु के साथ परखे जाने की कसौटी के साथ ही आलोचना के विषय में भी अनेक संभावनाएं और सीमाओं का उल्लेख करते हुए मेरा काम आसान कर दिया है। साथ ही व्यंग्यकार लालित्य ललित ने अपने बयान में अपने व्यंग्यकार के विकसित होने में अनेक व्यंग्य लेखकों का स्मरण और आभार ज्ञाप्ति करते हुए पूरी प्रक्रिया को स्पष्ट करने का प्रयास किया है। वहीं पहले संग्रज के फ्लैप पर ज्ञान चतुर्वेदी, यज्ञ शर्मा, डॉ. गिरिजाशरण अग्रवाल, सुभाष चंदर, हरीश नवल और गौतम सान्याल की टिप्पणियों को देख कर बिना व्यंग्य रचनाएं पढ़े ही लालित्य ललित को महान व्यंग्यकार कहने का मन करता है।
    मन को नियंत्रण में लेते हुए दोनों पुस्तकों में संग्रहित 66 व्यंग्य रचनाओं का गंभीरता से पाठ आवश्यक लगता है। यह गणित का आंकड़ा इसलिए भी जरूरी है कि दोनों व्यंग्य संग्रह में रचनाएं का जोड़ 67 हैं पर एक व्यंग्य ‘पांडेजी की जलेबियां’ दोनों व्यंग्य संग्रहों में शामिल है। यहां यह कहना भी उचित होगा कि इन दोनों व्यंग्य संग्रह में लालित्य ललित ने व्यंग्य के नाम पर कुछ जलेबियां पेश की है। वैसे भी व्यक्तिगत जीवन में आप स्वाद के दीवाने हैं और संग्रह के अनेक व्यंग्य आपके इसी स्वाद के रहते जरा स्वादिष्ठ हो गए हैं। जाहिर है कि आपकी इन जलेबियों में आपके अपने निजी स्वाद की रंगत और कलाकारी है जो आपको अन्य व्यंग्यकारों से अलग सिद्ध करने के लिए पर्याप्त है। कलाकारी इस अर्थ में कि लालित्य ललित कवि के रूप में जाने जाते हैं और संख्यात्मक रूप से भी आपकी कविताओं की किताबों का कुल जमा आंकड़ा डराने वाला है। अपनी धुन के धनी ललित का 32 वां कविता संग्रह "कभी सोचता हूं कि" आ रहा है। ऐसे में बिना पढ़े-सुने उन्हें कवि-व्यंग्यकार मानने वाले बहुत है तो जाहिर है उनके व्यंग्यकार की पड़ताल होनी चाहिए जिससे वास्तविक सत्य उजागर हो सके। उनके कवि की बात फिर कभी फिलहाल व्यंग्यकार की बात करे तो गद्य को कवियों का निकष कह गया है। निबंध गद्य का निकष कहा जाता है, इसमें व्यंग्य को भी समाहित ही नहीं विशेष माना जाना चाहिए। अस्तु कवि-कर्म को कसौटी व्यंग्य भी है।
    लालित्य ललित के व्यंग्य की तुलना किसी अन्य व्यंग्यकार ने इसलिए नहीं की जा सकती कि उन्होंने स्वयं की एक शैली विकसित करने का प्रयास किया है। उनके व्यंग्य किसी अन्य व्यंग्यकार या हिंदी व्यंग्य की मुख्य धारा से अलग अपने ही तरह के व्यंग्य लेखन का परिणाम है। उनकी यह मौलिकता उनकी निजता भी है जो उन्हीं के आत्मकथन मजाक करने में उनकी अपनी सावधानी कि किसी को चुभे नहीं और अपना काम कर जाए की कसौटी के परिवृत में समाहित है। उनकी रचनाओं का औसत आकार लघु है और कहना चाहिए कि आम तौर पर दैनिक समाचार पत्रों को संतुष्ट करने वाला है। जहां उन्होंने इस लघुता का परित्याग किया है वे अपने पूरे सामर्थ्य के साथ उजागर हुए हैं। साथ ही यह भी कि वे व्यंग्यकार के रूप में भी अनेक स्थलों पर अपने कवि रूप को त्याग नहीं पाए हैं। सौंदर्य पर मुग्ध होने के भाव में उनकी चुटकी या पंच जिसे उन्होंने मजाक संज्ञा के रूप चिह्नित किया है चुभे नहीं की अभिलाषा पूरित करता है।     व्यंग्य का मूल भाव ‘दिवाली का सन्नाटा’ में इसलिए प्रखरता पर है कि उन्होंने करुणा और त्रासदी को वहां चिह्नित किया है। इस व्यंग्य के आरंभ में पैर और चादर का खेल भाषा में खेलते हुए वे चुभते भी है और अपना काम भी करते हैं। मूल बात यह है कि उनका यह चुभना अखरने वाला नहीं है। उनकी व्यंग्य-यात्रा में कुछ ऐसे भी व्यंग्य हैं जहां उनका नहीं चुभना ध्यनाकर्षक का विषय नहीं बनता है। यहां यह भी कहना आवश्यक है कि इसी व्यंग्य का बहुत मिलता जुलता प्रारूप इसी संग्रह में संकलित अन्य व्यंग्य ‘महंगाई की दौड़ में पांडेयजी’ में देखा जा सकता है। जाहिर है मेरी यह बात चुभने वाली हो सकती है पर अगर इसने अपना काम किया तो आगामी संग्रहों में ऐसा कहने का अवसर किसी को नहीं मिलेगा। सवाल यहां यह भी उभरता है कि विलायतीराम पांडेय ने क्या सच में अपने परिवार की खुशी के लिए किडनी का सौदा कर लिया है। यह हो सकता है कहीं हुआ भी हो किंतु यहां मूल भाव ऐसा किया जाने में जो करुणा है वह रेखांकित किए जाने योग्य है। आधुनिक जीवन में घर-परिवार और बच्चों की फरमाइशों के बीच पति और पिता का किरदार निभाने वाला जीव किस कदर उलझा हुआ है। लालित्य ललित की विशेषता यह है कि वे इस पिता और खासकर पति नामक जीव की पूरी ज्यामिति वर्तमान संदर्भों-स्थितियों में उकेरने की कोशिश करते हैं।
    उनका मुख्य पात्र विलायतीराम पांडेय दोनों संग्रहों में सक्रिय है और दूसरे में तो वह पूरी तरह छाया हुआ है। धीरे धीरे उसकी पूरी जन्म कुंडली हमारे सामने आ जाती है। नाम- विलायतीराम पांडेय, पिता का नाम- बटेशरनाथ पांडेय, माता का नाम- चमेली देवी, पत्नी- राम प्यारी यानी दुलारी और दोस्त- अशर्फीलाल जैसे कुछ स्थाई संदर्भ व्यंग्यकार ने अपने नाम करते हुए विगत चार-पांच वर्षों का देश और दुनिया का एक इतिहास इनके द्वारा हमारे समाने रखने का प्रयास किया है। यहां दिल्ली और महानगरों में परिवर्तित जीवन की रंग-बिरंगी अनेक झांकियां है तो उनके सुख-दुख के साथ त्रासदियों का वर्णन भी है। पति-पत्नी की नोक-झोंक और प्रेम के किस्सों के साथ एक संदेश और शिक्षा का अनकहा भाव भी समाहित है। कहना होगा कि लालित्य ललित मजाक मजाक में अपना काम भी कर जाते हैं। यहां व्यंग्य का मूल केवल कुछ पंक्तियों में निहित नहीं है, वरन व्यंग्य का वितान जीवन के इर्द-गिर्द दिखाई देता है। स्वार्थी और मोल-भाव करने वाले प्राणियों के बीच इन रचनाओं का नायक विलायतीराम पांडेय कहीं-कहीं खुद व्यंग्यकार लालित्य ललित नजर आता है तो कहीं-कहीं उनके रंग रूप में पाठक भी स्वयं को अपने चेहरों को समाहित देख सकते हैं। आज का युवा वर्ग इन रचनाओं में विद्यमान है। उसके सोच और समझ को व्याख्यायित करते हुए एक बेहतर देश और समाज का सपना इनमें निहित है।
    यहां लालित्य ललित की अब तक की व्यंग्य-यात्रा के सभी व्यंग्यों की चर्चा संभव नहीं है फिर भी उनके दोनों संग्रहों से कुछ पंक्तियां इस आश्य के साथ प्रस्तुत होनी चाहिए कि जिनसे उनके व्यंग्यकार का मूल भाव प्रगट हो सके। पहले व्यंग्य संग्रह से कुछ उदाहरण देखें- ‘आप भारतीय हैं यदि सही मायनों में, तो पड़ोसी से जलन करना, खुन्नस निकालना आपका जन्मसिद्ध अधिकार है।’ (पृष्ठ-15); ‘जमाना चतुर सुजानों का है। मक्खन-मलाई का है, हां-जी, हां-जी का है, अगर आप यह टेक्नीक नहीं सीखोगे तो मात खा जाओगे, दुनियादारी से पिछड़ जाओगे।’ (पृष्ठ-20); ‘मगर यह बॉस किसिम के जीव जरा घाघ प्रजाति के होते हैं, जो न आपके सगे होते हैं और संबंधी तो बिल्कुल नहीं।’ (पृष्ठ-29); ‘सांसारिक लोगों का हाजमा होता ही कमजोर है।’ (पृष्ठ-37); ‘इन दिनों बड़ा लेखक छोटे को कुछ नहीं समझता तो छोटा लेखक बड़े को बड़ा नहीं समझता, हिसाब-किताब बराबर।’ (पृष्ठ-52); ‘जो लेते हैं मौका, वही माते हैं चौका।’ (पृष्ठ-58); ‘यह हिंदुस्तान है, यहां कुछ भी हो सकता है। अंधे का ड्राइविंग लाइसेंस बन सकता है। मृत को जीवित बनाया जा सकता है।’ (पृष्ठ-65);  ‘यही तो भारतीय परंपरा है- हम एक बार किसी से कुछ उधार लेते हैं तो देते नहीं।’ (पृष्ठ-92) आदि
    कुछ उदाहरण दूसरे व्यंग्य संग्रह से- ‘विलायतीराम पांडेय ने सोचा पल्ले पैसा हो तो साहित्यकार क्या, मंच क्या, अखबार क्या कुछ भी मैनेज किया जा सकता है।’ (पृष्ठ-21); ‘घूस देना आज राष्ट्रीय पर्व बन चुका है। अपने दी, आपकी फाइल चल पड़ी और नहीं दी तो आपका काम अटक गया, भले ही आप कितने बड़े तोपची हों।’ (पृष्ठ-24); ‘एक वो जमान था, एक अब जमाना है। बच्चे पहले तो सुन लेते थे, पर अब लगता है जैसे हम भैंक रहे हैं और वह अनसुना करने में यकीन करते हैं।’ (पृष्ठ-28); ‘कामवाली बाई भी वाट्सअप पर बता देती है, आज माथा गर्म है, मेमसाब, नहीं आ पाऊंगी, वेशक पगार काट लेना। (पृष्ठ-30); ‘बाजार में नोटबंदी के चलते कर्फ्यू-सा माहौल था।’ (पृष्ठ-38); ‘अब देश के नेता बाढ़ में जाने के बजाय अपना दुःख ट्विटर पर व्यक्त कर देते हैं।  (पृष्ठ-66); ‘मंदी ने बजाया आज सभी का बाजा, लेकिन राजनेताओं का कभी नहीं बजता बाजा, पता नहीं वो दिन कब आएगा।’ (पृष्ठ-80); ‘नंगापन क्या समाज के लिए अनिवार्य योग्यताओं में शामिल एक महत्त्वपूर्ण कड़ी है। कितने पोर्न पसंदीदा हो गए हम।’ (पृष्ठ-92); आदि उदाहरणो से जाहिर है कि उनके यहां विषय की विविधा के साथ समसामयिक स्थितियों से गहरी मुठभेड भी है। वे साहित्य और समाज के पतन पर चिंतित दिखाई देते हैं और साथ ही जनमानस की बदलती प्रवृतियों और लोक व्यवहार को रेखांकित करते हुए कुछ ऐसे संकेत छोड़ते हैं जिन्हें पाठकों को पकड़ना है। वे अपनी बात पर कायम है कि उनका कोई भी मजाक हिंसक नहीं है वरन वे अहिंसा के साथ उस रोग और प्रवृत्ति को स्वचिंतन से बदलने का मार्ग दिखलाते हैं।
    लालित्य ललित के पास गद्य का एक कौशल है जिसके रहते वे किसी उद्घोषक की भांति अपनी बात कहते हुए आधुनिक शव्दावली में अपने आस-पास के बिम्ब-विधान के साथ नए रूपकों को निर्धारित करने का प्रयास करते हैं। काफी जगहों पर हम व्यंग्य में कवि के रूप में ‘यमक’ और ‘श्लेष’ अलंकारों पर उनका मोह भी देख सकते हैं। एक उदाहरण देखें- ‘बॉस यदि शक्की है तो आपको ‘ऐश’ हो सकती है, बच्चन वाली ‘ऐश’ नहीं। नहीं तो अभिषेक की ठुकाई के पात्र बन सकते हैं।’ (‘जिंदगी तेरे नाम डार्लिंग’, पृष्ठ-35) वे व्यक्तिगत जीवन में खाने और जायकों के शौकीन हैं तो उनके व्यंग्य में ऐसे अनेक स्थल हैं जहां उनकी इस रुचि के रहते हमें मजेदार परांठों और पकौड़ों के बहुत स्वादिष्ट अनुभव ज्ञात होते हैं। नमकीन और मिठाई पर उनकी मेहरबानी कुछ अधिक मात्रा में है कि वे अपनी पूरी बिरादरी का आकलन भी प्रस्तुत करते हैं- ‘शुगर के मरीज लेखक लगभग अस्सी पर्सेंट हैं पर मुफ्त की मिठाई खाने में परहेज कैसा!’ (‘विलायतीराम पांडेय’, पृष्ठ-16)
    विलायतीराम पांडेय उनके लिए सम्मानित पार है और वे उसे यत्र-तत्र ‘नत्थू’ बनने की प्रविधियों में बचाते भी हैं। भारतीय पतियों और पत्नियों के संबंधों में मधुता होनी चाहिए इस तथ्य की पूर्ण पैरवी करते हुए भी पतियों और पत्नियों की कुछ कमजोरियों को भी वे बेबाकी के साथ उजागर भी करते हैं। जैसे संग्रह ‘जिंदगी तेरे नाम डार्लिंग’ के दो उदाहरण देखिए- ‘अधिकतर मर्द जिनकी प्रायः बोलती घरों में बंद रहती है, यहां नाई की दुकान पर उनकी जबान कैंची की तरह चलती है।’ (पृष्ठ-78); ‘शादी-शुदा है यानी तमान बोझों से लदा-फदा एक ऐसा आदमी, जिसकी न घर में जरूरत है और न समाज में।’ (पृष्ठ-24) दूसरे संग्रह ‘विलायतीराम पांडेय’ से- ‘जिंदगी में क्या और किस तरह एक पति को पापड़ बेलने पड़ते हैं यह पति ही जानता है, जो दिन रात खटता है।’ (पृष्ठ-59); ‘हे भारतीय पुरुष ! तू केवल खर्चा करने को पैदा हुआ है। खूब कमा, पत्नियों पर खर्चा कर। बच्चों के लिए ए.टी.एम. बन।’ (पृष्ठ-74); ‘हद है यार, महिला दिखी नहीं कि छिपी हुई सेवा-भावना हर पुरुष की उजागर हो जाती है।’ (पृष्ठ-101)
    लालित्य ललित के व्यंग्यों में प्रतुक्त अनेक उपमाएं रेखांकित किए जाने योग्य है। वे परंपरागत उपमानों के स्थान पर नए और ताजे उपमान प्रयुक्त करते देखे जा सकते हैं। यह नवीनता बाजार की बदलती भाषा और रुचियों से पोषित है। वे एक ऐसे युवा चितेरे हैं जिन्हें अपनी परंपरा से गुरेज नहीं है तो साथ ही अतिआधुनिक समाज की बदलती रुचियों और लोक व्यवहार से अरुचि भी नहीं है। हलांकी वे कुछ ऐसे शब्दों को भी व्यंग्य में ले आते हैं जिनसे आमतौर पर अन्य व्यंग्यकार परहेज किया करते हैं अथवा कहें बचा करते हैं। ‘मेरा भारत महान, जहां मन हो थकने का और जहां मन हो मूतने का,कही कोई रूकावट नहीं है।’ (‘जिंदगी तेरे नाम डार्लिंग’, पृष्ठ-55) ये अति आवश्यक और सहज मानवीय क्रियाएं हैं। सभी का सरोकार भी रहता है फिर भी उनके यहां शब्दों की मर्यादा है और वे संकेतों में बात कहने में भी सक्षम है- ‘हम भारतीय इतने प्यारे हैं कि अपने शाब्दिक उच्चारण से किसी का भी बी.पी. यानी रक्तचाप तीव्र कर सकते हैं या आपकी चीनी घटा सकते हैं।’ (‘जिंदगी तेरे नाम डार्लिंग’, पृष्ठ-17);
    अंत में यह उल्लेखनीय है कि लालित्य ललित के व्यंग्य अपनी समग्रता और एकाग्रता में जो प्रभाव रचते हैं, वह प्रभावशाली है। ऐसा भी कहा जा सकता है कि वे संभवतः पृथक-पृथक अपनी व्यंजनाओं से हमें बेशक उतना प्रभावित नहीं करते भी हो किंतु धैर्यपूर्वक पाठ और उनकी सामूहिक उपस्थिति निसंदेह एक यादगार बनकर दूर तक हमारे साथ चलने वाली है। विविध जीवन स्थितियों से हसंते-हसंते मुठभेड करने वाला उन्होंने अपना एक स्थाई और यादगार पात्र रचा है। अब आप ही बताएं कि हिंदी व्यंग्य साहित्य की बात हो तो कोई भला विलायतीराम पांडेय को कैसे भूल सकता है।
००००

Monday, January 07, 2019

धूप आई, हाथ छूने के लिए

डॉ. शील कौशिक का नया बाल कथा-संग्रह ‘धूप का जादू’ है, जिसमें 16 कहानियां हैं। शीर्षक कहानी में धूप का मानवीयकरण किया गया है। इस कहानी को पढ़ते हुए गीतकार गुलजार के वर्षों पहले लिखे गीत- ‘हवाओं पे लिख दो, हवाओं के नाम...’ का स्मरण होता है। इस गीत की पंक्ति है- ‘शाख पर जब, धूप आई, हाथ छूने के लिए - छाँव छम से, नीचे कूदी, हँस के बोली- आइये।’ प्रकृति का यह चुलबुलापन, भोलपन और सहज संवाद की स्थितियां जिस भाव भूमि की रचना हमारे भीतर करती है वह अद्वितीय है। यह भाव, भाषा और शिल्प की नवीनता के साथ रचनाकार की मौलिकता होती है कि वह ऐसे सहज-सामान्य से किसी बिम्ब से मर्म-स्पर्शी बात कह जाता है। ऐसा ही कहानी ‘धूप का जादू’ के साथ हुआ है। यहां डॉ. शील ने बहुत कम शब्दों में विज्ञान की ढेर सारी जानकारी, इस छोटी-सी कहानी में संजोकर अभिनव कार्य किया है। स्थितियां बदल चुकी है, अब जादू लोककथाओं अथवा परिकथाओं का नहीं है। असली और बड़ा जादू विज्ञान का है। जिस बच्चों को समझना चाहिए। इसी उद्देश्य से जीव-जगत और जीवन से धूप का यह बतियाना बेहद सुखद और शकुन भरा है। कहानी में संवादों के माध्यम से धूप ने जो कुछ कहा है वह बच्चों के स्तरानुकूल-ग्राह्य है। ‘काला आसमान’ कहानी भी विज्ञान से जुड़ी है जो ‘स्मॉग’ को स्पष्ट करती है।
संग्रह में विषयागत नवीनता देख सकते हैं। उदाहरण के लिए पहली ही कहानी ‘खत प्यारे सान्ता बाबा को’ में क्रिसमस के साथ ही एक मासूम बच्चे की कहानी में भीतर तक भीगते हैं। कहानी में बच्चे यह भी सीख सकते हैं कि उन्हें समय रहते समझ लेना है कि कुछ अटल सत्य होते हैं। कुछ ऐसी स्थितियां होती हैं जिन्हें बदला नहीं जा सकता। जैसे मयंक के पिता यदि शहीद हो गए हैं तो लौट कर नहीं आएंगे। डॉ. शील कौशिक की कहानियों की बुनावट बच्चों और उनके जीवन, व्यवहार और आचरण से गहरे तक जुड़ी होती हैं। वे बाल मन को बांचना जानती है कि अपनी कहानियों में मनोवैज्ञानिक आधार रचते हुए उन्हें कुछ न कुछ स्वत सीख मिलती है। ‘मिष्ठी का सवाल’ जैसी कहानियों में शिक्षा को बच्चों पर आरोपित नहीं किया जाना उनका विशेष कौशल है। इसी कौशल के रहते वे अन्य बाल कहानीकारों से अलग हैं और अपनी पहचान-विश्वास बना रही हैं। ‘आन्या की गुड़िया’ कहानी में दो सहेलियां आन्या और श्रेया के माध्यम से धैर्य-त्याग-समर्पण के भाव को अपनाने की शिक्षा है। इसके साथ ही बुरी आदत चोरी से बचने की प्रेरणा भी कहानी देती है। इसी भांति ‘हार-जीत’ कहानी में कनक और विभा के माध्यम से बच्चों में प्रत्येक स्थिति से मुकाबला करने के साथ खेल के बाद परस्पर प्रेम और भाईचारे का संदेश बड़ी बात है।
‘लौट आई मुस्कान’ कहानी में प्रसिद्ध धारावाहिक ‘रजनी’ के गुण प्रकट होते हैं। बच्चों की समस्या के प्रति प्रिंसिपल से मिलकर समस्या को हल करना हमारी जिम्मेदारी और जबाबदेही को दर्शाती है। इसी भांति ‘पानी अनमोल’ में पानी को बचाने का संदेश है। इस कहानी के अंत में लेखिका का विषय के प्रति मोह प्रकट होता है जहां वह सारा से काव्य पंक्तियां लिखवा कर गुनगुनाने का जिक्र करती हैं तथा पानी बचाने के अभियान के जारी रहने की आशा प्रकट करती है। स्वभाविक रूप से कहानी जहां पूरी होती है उसे वहीं छोड़ दिया जाना चाहिए। सारा ने पानी का जैसे ही महत्त्व समझ लिया तो लेखिका को भरोसा होना चाहिए कि उसके पाठक भी महत्त्व समझ चुके हैं। ‘जल्दबाजी और ‘उपचार से रोकथाम भली’ ऐसी ही कहानियां हैं जिसे सप्रयास शिक्षा देने के लिए लिखा गया है।
‘जुनून के चलते’ कहानी बच्चों की तुलना में उनके अभिभावकों के लिए हैं जो बच्चों के अतिरिक्त प्यार में सब कुछ भूलकर उनकी अनावश्यक मांगों को पूरी करते हैं। समय पर सब कुछ होना चाहिए, बहुत सी बातें समय पर ही ठीक लगती है। दादा-दादी और नाना-नानी के प्रति बच्चों में लगाव हो उन्हें जीव-जंतुओं से प्रेम हो ऐसे ही विषयों को संग्रह की अन्य कहानियों में पिरोया गया है।
बदलते समय और परिवेश में बच्चों को बाल पत्र-पत्रिकाओं और किताबों से जोड़ा जाना चाहिए इसी उद्देश्य से बच्चों का एक अभियान कहानी ‘सपना बच्चों का’ में अभिव्यक्त हुआ है। यह हम सभी शिक्षित अभिभावकों को जिम्मेदारी है कि बच्चों को शब्दों के जादू से समय रहते परिचित कराएं। ज्ञान का विशाल भंडार और जीवनोपयोगी अनेक बातें बच्चे पढ़ते-लिखते साथ साथ इतर साहित्य के माध्यम से सीख सकते हैं ऐसी अभिलाषा के लिए डॉ. शील कौशिक बधाई की पात्र हैं।
समीक्षक : डॉ. नीरज दइया
-----
पुस्तक : धूप का जादू (बाल कथा-संग्रह); कहानीकार : डॉ. शील कौशिक ; प्रकाशक : आयुष बुक्स, डी-3-ए, विश्वविद्यालयपुरी, गोपालपुरा बाईपास, जयपुर-302 018 ; संस्करण : 2018 ; पृष्ठ : 80 ; मूल्य : 150
-------

बालवाटिका (जनवरी, 2019) में प्रकाशित। आभार : सं. डॉ.भैरूंलाल गर्ग
------

Sunday, December 09, 2018

मराठी में दस राजस्थानी कविताएं

मुम्बई से प्रकाशित होने वाली मराठी पत्रिका 'आकंठ' दिवाळी २०१८ के 'राजस्थानी साहित्य विशेषांक' में मेरी दस कविताओं का मराठी अनुवाद प्रकाशित हुआ है।
अनुवादक- अविनाश दौंड, मनोहर धोत्रे, संपादक- रंगनाथ चोरमुले एवं अतिथि संपादक Bharat Ola और विशेष संपादकीय सहयोगी Om Nagar का आभार ।
बहुत शानदार इस अंक में राजस्थानी के अनेक रचनाकारों को शामिल किया गया है। भारतीय भाषाओं के आदान-प्रदान में आकंठ की पूरी टीप को बधाई और शुभकामनाएं।




Friday, November 23, 2018

तहलका में नीरज दइया पुरस्कार के बारे में आलेख


रेतीले राजस्थान के बीकानेरी साहित्यकार डॉ. नीरज दइया की पुरस्कृत आलोचना कृति ‘बिना हासलपाई’ उनके अपने सरोकारों, प्रतिबद्धताओं तथा प्रतिश्रुचियों का सुचिंतित पाठ है। इसमें भाषा के संयमित, सौंदर्यवाद के बावजूद उनमें सख्ती का स्वर भी सुनाई पड़ता है। इसकी प्रतिध्बनि एक साक्षात्कार में सुनाई पड़ती है कि, ‘मेरा काम तो आलोचना का सृजन जैसे रचना है। रचना प्रक्रिया में उन्होंने बहुत सारे पहलुओं को खोलती हुई टिप्पणियां भी की हैं, ’आलोचना में किसी लेखक के आत्म सम्मान पर चोट न हो, इस बात के प्रति सजग रहता हूं साथ ही अपने लेखक को बड़ा मानकर उसके पीछे-पीछे चलने का प्रयास करता हूं। डॉ. नीरज दइया ने अपने सृजन चिंतन के बूते समकालीन साहित्य को भी गहराई से प्रभावित करने का प्रयास किया है कि, ‘मैं मूल रूप से रचनाकार हूं और आलोचना का काम भी उसे रचना मानकर करता हूं। डॉ. दइया सार्थक रचनात्मकता के कर्ता हैं तो अपने आपको सखा आलोचक की भूमिका से अलग करते हुए स्पष्ट कहते हैं कि, ‘बिना हासलपाई आलोचना पुस्तक की एक सीमा है। हर पुस्तक की होती है और मेरा मानना है कि, आलोचना में कोई मित्र नहीं होता।” डॉ. दइया अपने आलोचनात्मक भाव में विचारधार के साथ दृढ़ता से जुड़े हुए चिंतक नजर आते हैं, जब वे कहते हैं कि, ‘बिना हासलपाई में उन कहानीकारों को लिया गया है जिन पर पर्याप्त ध्यान आलोचना ने नहीं दिया है। किंतु कुछ ऐसे कहानीकारों को छोड़ दिया गया है, जिन्होंने कहानियां तो कम लिखी हैं, लेकिन बातें बहुत की अथवा अपने कहानीकार होने को बहुत प्रचारित करवाया। उनका वाचिक विमर्श जयकार के अतिरेक से बोझिल आत्ममुग्ध कथाकारों की पांत को बेबाकी से परिभाषित करता है। डॉ. दइया की यह विचार दृष्टि उन्हें सदाबाहर आलोचकों और रचनाकार रिझाऊ आलोचकों की भीड़ से अलग करती है।
डॉ. दइया का लेखन ठिठका हुआ नहीं है। लेकिन अपनी आलोचना प्रविधि के बारे में स्पष्ट कहते हैं कि आलोचना का कोई तयशुदा फार्मूला नहीं होता। मैं लिखते समय बस लिखता हूं। किसी दिन क्या और किन... किन पर ध्यान बंटने लगेगा तो मेरा लेखन अवरुद्ध हो जाएगा। उन्होंने अपने आलोचना कर्म में लिखने का कारण और अंर्तप्रेरणा का परिचय देते हुए अपनी वैचारिक सामर्थ्य का भी खुलासा कर दिया है कि, ‘वैचारिक प्रवाह में घिरने के बाद लेखन में कोई अबरोध नहीं रह जाता।
कहानी विधा पर केंद्रित आलोचना कृति ‘बिना हासलपाई’ को परिभाषित करते हुए समीक्षक देवकिशन राजपुरोहित कहते हैं, ‘बिना हासलपाई का मतलब है बिना कुछ जोड़ या कम किए जैसी रचनाएं हैं, उनके गुण-दोष सप्रभाव अंकित कर दिए हैं, मतलब ज्यों की त्यों धर दीनी.... । पूरी पुस्तक में उन्होंने चर्चित और चुनिंदा 25 रचनाकारों की रचनाओं की परख की है। कई कहानीकारों की विधागत कमियों को गिनाया है तो पुर्नलेखन की गई रचनाओं को भी नहीं छोड़ा है। समीक्षक राजपुरोहित के अनुसार डॉ. नीरज दइया ने एक इशारा कवि से कहानीकार बने कहानीकारों की कहानियों और दूसरी भाषा से राजस्थानी में आए कहानीकारों की कहानियों की कमजोरी की तरफ भी किया है। कृति के आरंभ में कहानी आलोचना और कहानी विधा पर खुलकर बात की है तो कहानी के शिल्प और संवेदना पर भी अपना नजरिया स्पष्ट किया है। डॉ. दइया की लेखकीय समग्रता में समीक्षक का मूल्यांकन एक खास तरीके से उनकी पहचान कराता है। इस पुस्तक से कथाकार हसन जमाल की कृति ‘यह फैसला किसका था?’ पर की गई समीक्षक टिप्पणी ताजा हो जाता है कि, ‘राजस्थानी भाषा का प्रयोग कथा-भाषा और वातावरण को जीवंत कर देता है।”
समीक्षक भवानी शंकर व्यास आलोचना के प्रस्थान बिंदु के रूप में उनके ‘साहस’ को स्थापित करते हैं। उनकी टिप्पणी पुस्तक को प्रासंगिक बनाती है कि,‘डॉ. दइया ने साहस के साथ कहानी-साहित्य को कथा साहित्य कहने का विरोध किया है, क्यों कि कथा शब्द में कहानी और उपन्यास दोनों का समावेश होता है। उसे कथा शब्द से संबोधित करना भ्रम उत्पन्न करता है। यह टिप्पणी कई सवाल छोड़ती नजर आती है कि, ‘फिर साहित्य अपने समय के प्रश्नों से मुठभेड़ नहीं कर पा रहा? अपनी आलोचकीय दृष्टि में डॉ. दइया, ‘आधुनिक होने का अर्थ समय के यथार्थ से जुड़ना मानकर चलते हैं.... तो साहित्य की बढ़ती प्रासंगिकता और साहित्य के बढ़ते दायित्व को भी रेखांकित करते हैं। साहित्य में बढ़ते दायित्व को भी रेखांकित करते हैं। शैक्षणिक पत्रिका ‘शिविरा’ के नवम्बर 2015 के अंक में डॉ. दइया के बारे में सटीक टिप्पणी की गई थी कि, ‘उनके पास एक आलोचना दृष्टि है तथा कसावट के साथ बात कहने का हुनर भी। वे कलावादी आलोचना, मार्क्सवादी आलोचना या भाषाई आलोचना के चक्कर में ना पड़कर किसी कृति का तथ्यों के आधार पर कहानीकार के समग्र अवदान को रेखांकित करते चलते हैं। डॉ. दइया के पास वांछित शब्द और सच दोनों ही है। डॉ. दइया ने सभी कहानीकारों के प्रति सम्यक दृष्टि रखी है, न तो ठाकुर सुहाती की है और न ही जानबूझकर किसी के महत्त्व को कम करने की चेष्टा की है।
प्रसंगवश यहा मशहूर समालोचक नामवर सिंह की टिप्पणी का उल्लेख आवश्यक है। उनका कहना था, आलोचना केवल अपने समकालीन साहित्य का क्लीयरिंग हाऊस नहीं है। आज जो लिखा जा रहा है, उसमें क्या सार्थक है, क्या निरर्थक है और अच्छा है, उसकी छानबीन आवश्यक है तभी आलोचना और रचना विकसित होगी। डॉ. दइया आलोचना को रचना धर्म से अलग नहीं करते, किंतु नामवर सिंह का कहना था, ‘आलोचना रचना के साथ-साथ चलती है, पर एक कदम आगे। यद्यपि उन्होंने आलोचकों की कोटियों का दिलचस्प निर्धारण करते हुए उन आलोचकों की खबर ली है जो बराबर रचना के साथ ही चलते हैं पर रचना से एक कदम आगे चलने की हिम्मत नहीं रखते।
० तहलका (31 जनवरी 2018)

सहगल के कहानी-साहित्य का पूरा परिदृश्य / डॉ. नीरज दइया








हरदर्शन सहगल का कथा साहित्य और समकालीन विमर्श (शोध) डॉ. बबीता काजल; 
प्रकाशक- बोधि प्रकाशन, जयपुर; संस्करण- 2018; पृष्ठ-104; मूल्य-120/-
 पुस्तक-समीक्षा -
सहगल के कहानी-साहित्य का पूरा परिदृश्य / डॉ. नीरज दइया

    समकालीन हिंदी कथा-साहित्य के परिदृश्य में राजस्थान से हरदर्शन सहगल की प्रभावी उपस्थिति रही है। मियांवाली (पाकिस्तान) के कुंदिया गांव में 26 फरवरी, 1936 को जन्में सहगल का पहला कहानी संग्रह- ‘मौसम’ 1980 में प्रकाशित हुआ और तब से अब तक एक दर्जन से अधिक कथा-साहित्य की पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। आपको कथा-साहित्य के लिए राजस्थान साहित्य अकादेमी से रांगेय राघव पुरस्कार गत वर्ष अर्पित किया गया। डॉ. बबीता काजल का ‘हरदर्शन सहगल का कथा साहित्य और समकालीन विमर्श’ शोध का पुस्तकाकार आना उनकी साहित्य-साधना का सम्मान है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से स्वीकृत इस शोध-प्रोजेक्ट में छह अध्याय हैं। लेखक की कलम से में अपनी बात स्पष्ट करते हुए लेखिका ने कहानी के प्रति आकर्षण, बीकानेर और सहगल की आत्मीयता के साथ शोध-प्रस्ताव की रूपरेखा-विचारधारा को स्पष्ट किया है।
    शोध के आरंभ में आधुनिक हिंदी कहानी की यात्रा पर प्रकाश डालते हुए समकालीन विमर्शों की अवधारणाओं और अभिव्यक्ति के प्रश्न पर विभिन्न मतों के आलोक में चर्चा की गई है। शोध का प्रथम अध्याय स्त्री, दलित, सत्ता/ राजनीति, विखंडन, विघटन, बाजार, बाल तथा अन्य विमर्शों पर एक सीमा-रेखा का निर्धारण है जिनके मानदंडों पर हरदर्शन सहगल के कथा साहित्य में समकालीन विमर्शों का अध्ययन किया गया है। यह बहुत समीचीन है कि द्वितीय अध्याय में उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर विस्तार से जानकारियां उपलब्ध करवाने के साथ ही सभी रचनाओं का संक्षेप में परिचय भी दिया गया है। इस अध्याय में उल्लेखित नौ कहानी संग्रहों के विषय में विमर्शों के धरातल पर विस्तार आकलन लेखिका ने आगे के अध्यायों में किया है। यह अतिरिक्त अपेक्षा नहीं है और यहां यह प्रश्न स्वभाविक रूप से किया जाना चाहिए कि जब शोध विषय में ‘कथा-साहित्य’ पद प्रयुक्त किया गया है, तो इसमें सहगल के उपन्यास-साहित्य को शामिल क्यों नहीं किया गया है?
    तृतीय अध्याय ‘हरदर्शन सहगल की कहानियां : एक परिचय’ में संग्रहवार कहानियों की भावभूमि और परिचयात्मक-समीक्षात्मक टिप्पणियां हैं। चतुर्थ अध्याय- ‘हरदर्शन की सहगल की कहानियों में समकालीन विमर्श’ शीर्षक में एक अतिरिक्त ‘की’ प्रयुक्त हुआ है वहीं इस अध्याय की प्रथम पंक्ति- ‘अध्याय तीन में हरदर्शन सहगल द्वारा रचित लगभग 10 कथा संग्रहों में रचित लगभग 50 कहानियों का विषद अध्ययन करने से स्पष्ट होता है कि विषय का वैविध्य होते हुए भी आपकी अधिकांश कहानियों में मध्यवर्गीय जीवन को केन्द्र में रखकर लिखी गई है।’ खेद के साथ लिखना पड़ता है कि इस पंक्ति में दो बार ‘लगभग’ प्रयुक्त होना, अध्ययन की गंभीरता को कमतर सिद्ध करने वाला है। पूर्व में उल्लेखित कहानी और कथा का विभेद भी यहां आवश्यक जान पड़ता है। इस अध्याय की एक पंक्ति देखें- ‘बहरहाल राजस्थान के सुप्रसिद्ध कथाकार हरदर्शन सहगल द्वारा रचित कहानियों में अगर विमर्श या विचारों की तलाश करें तो वह विविधता से भरा है यद्यपि कुछ एक विषयों पर उन्होंने बहुत अधिक लेखनी नहीं चलई है तथापि वर्तमान में बहने वाली अनेक साहित्यिक धाराएं उनके साहित्य में अपनी प्रासंगिकता को सिद्ध करती है।
    प्रत्येक शोध की अपनी सीमाएं और संभावनाएं होती है। जाहिर है इस शोध की भी अपनी सीमाएं हैं किंतु संभावनाएं असीमित है। विषय के सांचे में किसी रचनाकार की कृतियों का मूल्यांकन उस कृति की इतर अनेक संभावनाओं का अंत होता है। इसके उपरांत भी विदुषी डॉ. बबीता काजल ने अपनी शोध-परक सूक्ष्म दृष्टि का परिचय अनेक स्थलों पर देते हुए कहानियों में विमर्शों की न्यूनता-अधिकता को स्पष्ट किया है। शोध का प्रमुख और प्रभावशाली अध्याय पांचवा है- ‘समकालीन कहानी : संवेदना के स्तर’ जिसमें समकालीन कहानियों और कहानीकारों का तुलनात्मक अध्यय प्रस्तुत करते हुए सहगल के कहानी लेखन को रेखांकित किया गया है। अनेक कहानियों को उदाहरण के रूप में प्रस्तुत करते हुए लेखिका ने हरदर्शन सहगल को जीवन में साहित्य के माध्यम से सद्गुणों को बचाने वाले सजक सृजक के रूप में पाया है।
    पुस्तक के अंतिम अध्याय- ‘नव विमर्श में निहित संभावनाएं’ का निष्कर्ष है कि अनेक-अनेक धाराओं के मध्य ‘मानव विमर्श ही परम विमर्श और अंगी विमर्श है, जो मानव की समस्त संवेदनाओं व अनुभूतियों को बनाए रखने का पक्षधर है और सहगल के कहानी साहित्य का उद्देश्य मानव धर्म की प्रतिस्थापना करना है। मानवीय संवेदनाओं का रक्षण और दुष्प्रवृत्तियों का क्षर करने वाले कहानीकार सहगल पहले साहित्यकार हैं जिनकी कहानियों पर ऐसा शोध प्रकाश में आया है, इसलिए लेखिका को बहुत बहुत साधुवाद। उपसंहार में लेखिका के व्यक्त विचार से सहमत हुआ जा सकता है कि सहगल द्वारा रचित कहानियां उनकी मौन साधना और खामोशी में अपना धर्म निभाती बिना किसी खेम का ढोल पीटे मौन साधक की साधना है। बबीता काजल के इस शोध ग्रंथ में सहगल के कहानी-साहित्य का पूरा परिदृश्य हम देख सकते हैं।
    पुस्तक के सुंदर मुद्रण और प्रकाशन के लिए बोधि प्रकाशन को बधाई और कहना होगा कि इस प्रकार के शोध विभिन्न रचनाओं-रचनाकारों के संबंध में भी होते रहेंगे। 

Wednesday, October 24, 2018

‘श्रीलाल नथमलजी जोशी : रचना संचयन’ लोकार्पण

राजस्थानी के प्रथम उपन्यासकार श्री श्रीलाल नथमलजी जोशी की आठवीं पुण्य तिथि पर आयोजित ‘श्रीलाल नथमलजी जोशी : रचना संचयन’ लोकार्पण-समारोह

















 बीकानेर/ 23 अक्टूबर/ श्रीलाल नथमलजी जोशी ने राजस्थानी कथा साहित्य के पायोनियर रचनाकार थे जिन्होंने प्रवाहमयी भाषा द्वारा जटिल से जटिल भावों को सहजता से अभिव्यक्त किया। उक्त उद्गार प्रसिद्ध कवि-चिंतक डॉ. नन्दकिशोर आचार्य ने श्रीलाल नथमलजी जोशी की आठवीं पुण्य तिथि पर आयोजित लोकार्पण समारोह की अध्यक्षता करते हुए व्यक्त किए। मुक्ति संस्था महाराजा नरेन्द्रसिंह ओडिटोरियम में डॉ. आचार्य ने राजस्थानी के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि मैं सैद्धांतिक रूप से मानता हूं कि शिक्षा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए, यह भाषिक मानवाधिकार की श्रेणी में आता है कि जिनकी मातृभाषा राजस्थानी है उन्हें आरंभिक शिक्षा राजस्थानी में मिले। उन्होंने श्रीलाल नथमलजी जोशी के अनेक संस्मरणों को बताते कहा कि ‘धोरां रा धोरी’ जैसे जीवनीपरक उपन्यास की परंपरा आगे विकसित होनी चाहिए थी। नए लेखकों को अपने पूर्ववर्ती लेखकों से सृजनात्मक रिश्ता उनकी भाषा में तलाशना चाहिए।
    मुख्य अतिथि ख्यातनाम कवि-संपादक भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ ने कहा कि श्रीलाल नथमलजी जोशी ने राजस्थानी के लिए बेजोड़ काम किया। अग्रजों के लिए उनमें श्रद्धा भाव था। व्यास ने कहा कि उनका उपन्यास ‘आभै पटकी’ राजस्थानी का पहला उपन्यास है जिसे शुद्ध सामाजिक उपन्यास कहा जा सकता है। जोशी के कार्यों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि राजस्थानी गद्य के विकास में उनका अविस्मरणीय योगदान रहा है।
    लोकार्पित कृति ‘श्रीलाल नथमलजी जोशी : रचना संचयन’ पर अपने पत्रवाचन में कवि-आलोचक डॉ. नीरज दइया ने जोशी की पांच पुस्तकों के संकलन को पंचामृत की संज्ञा देते हुए उन्हें कालजयी गद्य लेखक बताया। डॉ. दइया ने कहा कि जोशी जी के हॄदय में मातृभाषा राजस्थानी के अपरिमित लगाव था जिसके रहते वे गद्य साहित्य को अपने जीवनकाल में विविध कथा-प्रयोगों से समृद्ध करते रहे।
    लोकार्पण समारोह के आरंभ में ठा.रामसिंह द्वारा लिखित और श्रीलाल नथमलजी जोशी को अतिप्रिय राजस्थानी वंदना का गायन प्रसन्ना पारीक और शिवानी पारीक ने प्रस्तुत किया। आगंतुकों का स्वागत करते हुए कवि-कहानीकार मालचंद तिवाड़ी ने श्रीलाल नथमल जोशी से जुड़े संस्मरण साझा करते हुए उन्हें राजस्थानी का अद्वितीय रचनाकार बताया और संचयन के प्रकाशन को निजी हर्ष का विषय कहा।
    रचना संचयन के संपादक द्वय श्रीमती कांता पारीक और श्रीमती प्रभा पारीक में से श्रीमती प्रभा ने अपनी बात रखते हुए बाऊजी के लेखन की विचार भूमि पर प्रकाश डालते हुए उनके द्वारा उन्हें लिखित दो पत्रों का भी वाचन किया। इस अवसर पर श्रीमती शशिकांता जोशी और साहित्यकार मधु आचार्य ‘आशावादी’ को संपादक द्वय द्वारा रचना-संचयन भेंट किया गया।
    व्यंग्यकार-कहानीकार बुलाकी शर्मा ने पुस्तक प्रकाशन की रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए बाऊजी से जुड़े अनेक संस्मरण साझा करते हुए कहा कि हमें श्रीलाल नथमलजी जोशी के कार्यों से प्रेरणा लेते हुए निरंतर राजस्थानी सृजन करना चाहिए। राजस्थानी उनके और हमारे मन से जुड़ी भाषा है। समारोह का संचालन बुलाकी शर्मा ने किया तथा अंत में वाचस्पति जोशी ने आभार ज्ञाप्ति किया। कार्यक्रम में साहित्यकार सरल विशारद, डॉ. श्रीलाल मोहता, लक्ष्मीनारायण रंगा, राजाराम स्वर्णकार, भंवर लाल भ्रमर, प्रमिला गंगल,राम प्रकाश मन्नू, बैजनाथ पारीक, कमला कोचर, ओमप्रकाश सारस्वत, प्रीति पारीक, शुभा पारीक, विश्वासिनी, किशन गोपाल पांडिया, गिरधर गोपाल व्यास, पी आर लील, नवनीत पाण्डे, पृथ्वीराज रतनू, प्रो. अजय जोशी, डॉ. मेधराज शर्मा, अविनाश व्यास, मुकेश व्यास, प्रमोद कुमार चमोली, दीपचंद सांख्ला, नदीम अहमद नदीम, गौरीशंकर प्रजापत आदि उपस्थित थे।

Tuesday, October 23, 2018

जोशी जी री आज आठवीं पुण्यतिथि माथै खास

पैली पीढी रा नायब कहाणीकार : श्रीलाल नथमल जोशी
डॉ. नीरज दइया


    श्रीलाल नथमल जोशी (1922-2010) रा दोय कहाणी-संग्रै प्रकाशित हुया। पैलो- परण्योड़ी-कंवारी (1973) राजस्थान साहित्य अकादमी सूं अर दूजो- मैंदी, कनीर अर गुलाब (1997) अकादमी री इमदाद सूं। जोशी जी राजस्थानी कहाणी री पैली पीढी रा नायब कहाणीकार है अर आप राजस्थानी कहाणी रै पैलै पांवड़ै फगत अर फगत कहाणियां लिखी। दूजै संग्रै री कहाणियां ई पैलै संग्रै रै आसै-पासै लिख्योड़ी लखावै। कहाणी-जातरा माथै विचार करां तो जोशी जी रा पगल्या पूजणजोग है। कहाणीकार अन्नाराम सुदामा, नृसिंह राजपुरोहित, विजयदान देथा, नानूराम संस्कर्ता, यादवेंद्र शर्मा चंद्र, करणीदान बारहठ अर मूलचंद प्राणेस सरीखै कहाणीकारां भेळै आधुनिक कहाणी नैं परवाण चढावण मांय आपरी कहाणियां नै उण बगत मुजब केई केई बातां मांय सिरै मान सकां।
    श्रीलाल नथमल जोशी री कहाणियां री खासियत है कै कम सबदां मांय आपरी बात कैवै। आकार मांय छोटी आं कहाणियां मांय पात्रां रो चरित्र-चित्रण अर नाटकीय संवादां मांय गजब रो नाप-तौल देख सकां। लोककथावां री बुणगट साव आंतरो राखती आं कहाणियां रो सीधै आपरै मरम तांई बिना किणी विषयांतर रै जावणो देखां तो लखावै कै आं कहाणियां री चरचा हुवणी चाइजै ही। इण बात में कोई सक कोनी कै दोनूं संग्रै बिचाळै एक बीसी सूं बेसी आंतरो हुयां रै उपरांत ई कहाणी कला री दीठ सूं दूजै संग्रै- मैंदी, कनीर अर गुलाब री कहाणियां संग्रै- परण्योड़ी-कंवारी सूं घणी आगै री कहाणियां कोनी। दोनूं संग्रै री कहाणियां रो जोड़ 44 है, ऐ कहाणियां आपरै बगत री साख भरै। कहाणियां रै मारफत कहाणीकार रै निजू जीवण रा केई रंग अर चितराम ई सोच मांय देख सकां।
    “नाटक” कहाणी री खासियत आ है कै इण मांय कोई नाटक नीं हुय’र अलसी जिंदगाणी मांय हुवण वाळै नाटक रा रंग राखण रो जसजोग काम कहाणीकार करियो है। सरल, सहज अर नुंवी बुणगट पेटै जूण नै अरथावती आ कहाणी मिनख रै रंग बदळतै मिजाज माथै सांवठो व्यंग्य करै। आजादी पछै रै पूंजीपति समाज रो सेठ मोवनलाल प्रतिनिधि पात्र है, उण रै चरित्र रै मारफत किणी रै दौगलै हुवण रो ऐसास कहाणी करावै। जाहिर है कै चावी कहाणी “किरकांटियो” अठै याद आवै। परण्योड़ी कंवारी, काळजै री कोर अर आगोतर कहाणियां मांय कागद नै कहाणी बुणगट मांय प्रयोग रूप परोटण री बानगी मिलै।
    श्रीलाल नथमल जोशी री कहाणियां मांय बां रो बीकानेर अर राजस्थानी भाषा खातर अपणायत देखी जाय सकै। कहाणी “कमला रो बाप” री ऐ ओळ्यां देखो- “एक दिन हूं कमला नै लियां लियां इटलीवासी, राजस्थानी भासा रै धुंरधर विद्वान स्व. डाक्टर टैसीटोरी री समाधी देखण नै गयो परो। पब्लिक बाग सूं निकळतै ई डावै हाथ खानी बीकानेर में टैसीटोरी री समाधी है। कमला नै म्हैं टैसीटोरी बाबत केई बातां बताई जद बींरी इटली रै विद्वान खातर घणी सरधा हुयगी।” (पेज-61)  दूजो दाखलो कहाणी “बधण री बेळा” सूं- “बीकानेर नगर रै उतराद खानी जस्सूसर रो दरवाजो है। रियासती जमानै में परकोटै रा दरवाजा रात नै दस बजी रै अड़ै-गड़ै ढकीज जावता अर झांझरकै च्यार बजी पाछा खुलता। देस आजाद हुआं पछै दरवाजा अस्टपौर खुला ई रैवै अर विग्यान री बढोतरी रै इण जुग में अबै बांनै ढकण में भी कीं सार कोनी।” (पेज-79) कहाणी मांय परिवेश रो ओ बखाण कहाणीकार री निजू ओळखाण अर बीजी केई बातां नैं खोलै।
    राजस्थानी कहाणी-जातरा मांय बुणगत अर कथानक नै परोटण री दीठ सूं “बधण री बेळा” कहाणी नैं बेजोड़ कैयी जावैला। इण कहाणी मांय पात्र खेजड़ो अर बोरड़ी कम उमर रै प्रेम माथै सखरी टीप करै अर बगतसर सही उमर आयां प्रेम नै पोखण री बात समझावै। कहाणी री सांकेतिक अर सूक्ष्मता देखणजोग है- “खेजड़ै कैयो- घबरावण री जरूरत कोनी। म्हारी बात सुण। अबार आपांरै बधण री बेळा है, अळूझण री नईं। तूं खूब बध, अर हूं ई खूब बधूं। जित्ता आपं ऊंचा चढ सकां बित्ता चढो। फेर तूं म्हारै खानी लुळ हूं थारै खानी लुळूं। आपां रा अंग आपस मएं रमर एकजीव बण जासी। फेर आपां किणी रै अटकां कोनी, खटकां कोनी। आपांरो मेळ जद मारग बैवतां नै छैयां देसी, तो पछै आपां नै कोई क्यूं अळगा करसी, क्यूं न्यारा करसी?” (पेज-84)
    जूनी पीढी रै कहाणीकारां मांय जोशी जी री कहाणियां मांय विषयगत नवीनता अर आगाऊ सोच कीं बेसी लाधै। “मैंदी कनीर अर गुलाब” अर “मोलायोड़ी लाडी” जिसी कहाणियां घणी-लुगाई रै संबंधां नै अरथावै। कहाणी मांय ओ नुंवो प्रयोग बुणगट री दीठ सूं कैयो जावैला कै प्रेम अर नर-नारी रै आदू रिस्ता नै न्यारी दीठ सूं ऐ कहाणियां समझावै। प्रेम रो सरूप घणो झींणो हुवै अर उण मांय जरा-सी’क बात सूं ठबक लाग जावै। मैंदी, कनीर अर गुलाब रै मारफत प्रेम रै त्रिकोणीय भेद नै खोलती कहाणी मांय जाणै प्रकृति पाठ पढ़ाय रैयी है। मोलायड़ी लाड़ी साव नाटकीय कहाणी है अर बेमेळ ब्यांव भेळै जनसंख्या री बात ई लेय’र चालै पण इण मांय सगळा सूं बेसी अचरज आळी बात कै जोशी जी री कमल सूं उण बगत एक लुगाई आपरै आदमी सांम्ही बोल रैयी है- “हूं थां में तीन लाख नूवे हजार नईं , तो खाली नूवे हजार रुपिया मांगूं। इण च्यार टाबरां मांय सूं थे खाली तीन रा ई बाप हो। दस हजार काटर चौथे टाबर रा नूवे हजार म्हारै हवालै करो।” (पेज32) किणी परणी रो च्यार टाबरा मांय एक टाबर खातर इण ढाळै री बात कहाणी मांय पैली बार आवै। इण बात री परख कियां हुवै? पण इण सूं अलगाव उपजै अर दस बरसां पछै ओ सळ निकळै कै घणी नै खुद सूं दूर राखण खातर आ कूड़ी ओळी कैयी ही।
    जोशी जी री आं कहाणियां री बोल्डनेस है कै “पोतै नै सांभो” जिसी कहाणी मांय भ्रूण-हत्या री खिलाफत करता कंवारी कन्या बेटै नै जलम देवै। भरी सभा मांय नाजायज टाबर माथै चरचा करी जावै। कहाणी संकेत करै कै किणी पण बात माथै मौकैसर बोलणो उण रै पख-विपख मांय बोलणो सरल नीं हुवै। मिनख री फितरत है कै रूप-रंग रै चक्कर मांय बो कांई रो कांई कर जावै। कहाणी “फिकर ना करो” रै मारफत मिनख री आदम भूख नै बखाणै। सेक्स साइकॉलोजी माथै पीएच.डी. कर रैयी डॉ. उर्मिला सूं कथानयक रात री एक रेल-जातरा मांय मिलै। पूरै सफर मांय नायक रो झूठ माथै झूठ बोलणो मिनख रै मन मांय बस्योड़ो लुगाई रै रूप रो लगाव है। कहाणी कैवै कै मिनख किण हद तांई लुगाई खातर आपरी आत्मा नै मार सकै पण खुद आ सहन नीं कर सकै कै उण री लुगाई किणी दूजै आदमी सूं मेळ-मुळाकात राखै या कदैई राखती ही। इणी विषय नै कहाणी- “आपरो सरूप” मांय कहाणीकार नुंवी उकरास सूं चवड़ै करै। कहाणी रो ओ अंश विचारणजोग है- “सिंझ्या पड़ी जद कमरै में गोपाल बाबू एकला हा, तो काच नै उठाय’र देखण लाग्या। एकाएक विचार में पड़ग्या। ब्याव पछै आं दस बरसां में बारै-तेरै छोरियां-लुगायां गोपाळ बाबू रै जीवण में आई अर बां मांय सूं च्यार-पांच नै बां कागद लिख’र दिया जिण में ऊमर भर बंधण रो बैण करियोड़ो हो। आंरै सागै जिकी-जिकी लीलावां करी ही, बै सगळी मुद्रावां गोपाल बाबू नैं एक-एक करनै दीसण लागगी। आज पैली जिकी लीला माथै बां कदेई गौर नईं करियो, बा अबै एक गंभीर चीज लागण लागगी। मन में तोल-जोख करण लागग्या- “म्हारो कसूर बड़ो’क प्रेमा रो?” काच में जाणै बांनै दोनूं चैरा अबै दीसण लागग्या- एक आप रो- काळो, तवै जिसो ; दूजो प्रेमा रो जिको साव निरमळ, गोरो निछोर, बाळपणै रो कागद जाणै एक काळो तिल बणनै उणरै मुखमंडळ री सोभा में बिरधी करतो हो।” (आपरो सरूप : पेज-39)      
    लोक-रंग अर सामाजिक काण-कायदा ई आं कहाणियां मांय खूब मिलै। बुणगट री दीठ सूं जीवण सूं जुड़्या घटना-प्रसगां रै मारफत कहाणी लिखणो कोई जोशी जी सूं सीखै। “भाड़ेती” कहाणी रै मारफत कहाणीकार अरथावै कै विपदा मांय आदमी कांई कांई नीं कर जावै। जात-पात रै बंधनां नै तोड़ती कहाणी- “प्रेम री मनवार” है तो गरीब नै सतावण री कहाणी “काल ले जाए” है। “कुंवारो चौधरी” मांय ठगां सूं बचाव री बात है तो “छतर –छैंया” अर “घरणी अर भरणी” धन सूं जुड़ी कहाणियां है। जोशी जी री कहाणियां रै नांवां नै लेय’र कैयो जाय सकै कै केई कहाणियां रा नांव साव जूनै ढाळै रा है।
    राजस्थानी भाषा अपणायत रा केई दाखल जोशी जी कहाणियां मांय देख सकां। जियां- “देख रामा, तूं जद जावै तो हरनाथ नै एक बात और अखराये, म्हारै नांव सूं, कै पैली तो तूं कागद राजस्थानी में लिख्या करतो अर अबै तूं कदेई हिंदी अर कदेई अंगरेजी में लिखै। गांव नै भूलग्यो, बाप नै भूलग्यो, पण तूं थारी मातभासा नै ई भूलग्यो। रामा तूं साफ कैय देईजै कै मनै कागद लिखै तो राजस्थानी में लिखै, नईं तो हूं बिना कागद ई सार लेसूं ; तू थारै है जठै राजी-खुसी रै।” (मंगळ बेळा में आंसू : पेज-103)
    “म्हारै हाथ में राजस्थानी भासा रो काणी-संग्रै। काण्यां तो हूं भी लिख्या करूं, पण इण लिखार री सूझबूझम कळपना, भासा माथै इधकार कहावतां-मुहावरां रो प्रयोग तथा दुनिया रो अनुभव देखर तो इयां लागण लाग्यो कै मनै म्हारी काण्यां छपण खातर भेजणी ई नईं चाईजै। एक-एक वाक्य नई, एक-एक सबद इण तरै जचायोड़ो कै थोड़ी-सीक छेड़छाड़ सूं सगळो ढांचो ई खिखर-बिखर हुजावै।” (कथणी अर करणी : पेज- 125)
    इण दूजै दाखलै मांय भाषा-प्रेम भेळै कहाणी पेटै आत्म-मंथन अर असूलां री बातां कहाणीकार कैयी है। आं बातां नै जोशी जी आपरै सांम्ही राख’र कहाणियां लिखी। अध्यात्म, दर्शन, चिंतन आद केई बातां सूं सजी आं कहाणियां रो लोक जोशी जी री खुद री दुनिया सूं जुड़्योड़ो है। लेखकीय दुनिया कीं दरसाव देखणा हुवै तो कहाणियां- “छेकड़ली बात”, “अमर मिनख” अर “कचरो, कादो, कमल” देखी जाय सकै।    
    तुर्गनेव, चेखव आद लिखारां नै कहाणी मांय याद करण रै मिस श्रीलाल नथमल जोशी राजस्थानी कहाणी नै घणी ऊंची जागा देखण रो सपनो देख रैया हा। “साधना नैं तो साधना री मां जाई है। इण साधना रा परताप है कै जे म्हारै इण उपन्यास “अमर मिनख” नै जूनै कागद माथै बोदी रोसनाई सूं रूसी भासा में मांडर तुर्गनेव री अलमारी में राख देवै तो लोग तुर्गनेव री सगळी रचनावां नै भूल जावै, अर “अमर मिनख” उणरी सरब-श्रेष्ठ कृति गिणीजण लाग जावै, अर दस लाख कापी इण री हाथोहाथ बिक जावै। अर जे तुर्गनेव कायम हुवै, अर इण उपन्यास नै रूसी में छप्योड़ो देख लेवै, तो बो सगळा काम धंधा छोड़नै उपन्यास-कळा सीखण खातर पक्कायत म्हारै कनै आवै। विदेसी लोग कला रा पारखी हुवै।“ (अमर मिनख : पेज - 136) आ बात भलाई व्यंग्य मांय कैयी गई हुवै पण इण नैं म्हैं सपनो मानूं। ओ सपनो आपरै बगत मांय जोशी जी री आंख मांय पळतो हो।


लेबल

2011 2013 22-09 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणी-जातरा कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ किताब भेंट कुंदन माली कृति-भेंट खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घिर घिर चेतै आवूंला म्हैं घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. अजय जोशी डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तहलका तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देवकिशन राजपुरोहित देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख प्रज्ञालय संस्थान फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी मराठी में कविताएं माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजस्थानी युवा लेखक संघ राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी राजेन्द्र शर्मा रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य व्यंग्य-यात्रा शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा श्रीलाल नथमल जोशी संजय पुरोहित सतीश छिम्पा सत्यनारायण समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार संवाद सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती सांवर दइया पुण्यतिथि सांवर दैया साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरदर्शन सहगल हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992

डॉ. नीरज दइया (1968)
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

2019


0 नेम प्रकाशन द्वारा साहित्य पुरस्कार 2019