Sunday, November 20, 2011

समाजिक-चेतना रै संजोरा सुरां री कहाणियां

राजस्थानी साहित्य मांय मनोज कुमार स्वामी एक ओळखीजतौ नांव है। काचो सूतकहाणी-संग्रै रै अलावा आपरी बाल-कहाणियां री पोथी- तातड़ै रा आंसू”, कविता संग्रै- बेटीअर लघुनाटक री पोथी- रि-चार्जछप्योड़ी। आप री ओळखाण रा दोय बीजा महतावू पख भळै है कै आप घणै बरसां सूं सूरतगढ़ टाईम्सपखवाड़ियै छापै रै मारफत राजस्थानी रौ डंकौ बजावता रैया है, अर भासा री मान्यता खातर ई दीवानगी री हद तांई भावुकता राखै। जन-चेतना खातर लांबी जातरावां करी, अर पत्रकारिता रै लांठै अनुभव रै पाण काळजौ हिलावै जैड़ा सांच सूं सैंध नित सवाई हुवै। स्यात ऐ ई कारण रैया है कै आपरी रचनावां मांय किणी गोड़ै घड़ियै सांच री ठौड़ खरोखरी देख्यै-भोग्यै अर परखियौ सांच सामीं आवै।
कोई एक लेखक जद न्यारी न्यारी विधावां मांय रचनावां लिखै तद ई उण रचानकार री पण एक विधा मूळ हुया करै। अठै फगत इत्तौ कैयां सरै कोनी कै लेखक मनोज कुमार स्वामी मूल मांय कहाणीकार है। सो बांरै इण कहाणी संग्रै किंयारै मारफत आ पड़ताळ जरूरी लखावै।
रचनाकार जद किणी रचना नै लिखै तद उण री रचना रै मूळ मांय कोई न कोई कारण जरूर हुवै। बिना किणी कारण रै जिकौ कीं रचीजै बा रचना कोनी हुवै। मनोज कुमार स्वामी पत्रकार है सो बां नै नित लिखणौ पड़ै, पण बो लिखणौ अर ओ लिखणौ घणौ दोनूं एक कोनी। तौ कांई पत्रकारिता मांय जिकौ कीं नीं लिखज सकै का जिकौ बठै लिखण मांय छूट जावै...लिखज नीं सकै बो सिरजणा रौ बीज बणै। जिकै नै लिख्यां बिना निरायती नीं मिलै, बो ई कीं किणी रचना री जलमभौम हुय सकै। कोई खबर कहाणी कोनी हुवै पण कहाणी मांय कोई खबर हुय सकै अर असल मांय रचना रै मूळ मकसद मांय एक मकसद आपां नै खबरदार करणौ ई हुया करै। खबरदार करण नै ई दूजै सबदां मांय कैया करां कै- रचना समय अर समाज नै संस्कारित करै।
आपां रै आखती-पाखती रा केई-केई चितराम दीठावां रै रूप किंयाकहाणी-संग्रै री कहाणियां मांय ढाळिया है। मनोज कुमार स्वामी री कहाणी-कला री सब सूं मोटी अर उल्लेखजोग खासियत आ है कै बै आपरै आसै-पासै री घटनावां नै कहाणियां मांय ढाळाती बगत खुद एक खास सामाजिक चेतना रै आगीवाण लेखक री इमेज मांय ढळता जावै। इण बात रौ खुलासौ इण ढाळै समझ सकां कै फिल्मां मांय जिंया अभिनेता मनोज कुमार री छवि भारत नांव अर देस-भगत रै रूप मांय चावी-ठावी हुयगी, ठीक बिंया ई कहाणीकार मनोज कुमार स्वामी ई समाजिक-चेतना रा चावा-ठावा कथाकार हुयग्या है। गांव अर नगरीय जीवण रौ जिकौ रूप बांरी लगैटगै सगळी कहाणियां सामीं आवै, उण मांय मूळ चिंता आधुनिकता अर बदळाव री आंधी सूं लोप हुवतां आपां रा संस्कार दीसै। आं संस्कारां री संभाळ सारू कहाणीकार बारम्बार इण लोक मानस रै सामीं केई कहाणियां मांय ऊभौ हुवतौ दीसै।
छोर्‌यांकहाणी मांय कहाणीकार आपरै सामीं हुयै एक छोटै-सै घटना-प्रसंग नै काहाणी मांय ढाळ देवै। सजीव चित्रात्मक भासा रै पाण इण कहाणी मांय केई केई संकेत कहाणीकार करै, जिंया- विस्थापन रो दरद, आधुनिक हुवतै समाज रा संस्कार, लोक री भासा मांय बदळाव, कामुक दीठ, बाल श्रम, अशिक्षा, नारी असमानता, देस विकास आद। केई सवालां सूं बाथेड़ौ करतौ कहाणीकार जद कळभळीजतौ छेकड़ मांय सवाल करण ढूकै तद आपां रा कान खूसर हाथां मांय आय जावै। इत्तै रसीलै कथा-प्रसंगां पछै इण ढाळै री फंफेड़ी राजस्थानी कहाणी मांय साव नूंवी कही जाय सकै। जे नेठाव सूं विचारां तौ अठै लखावै कै ओ पत्रकार मनोज कुमार स्वामी रौ सामाजिक-चेतना रौ संजोरो सुर है जिण नै उगेरियां बांनै निरायती मिलै।
समाज मांय हुवण आळा छळ-छंदां नै एक पत्रकार किणी रचनाकार सूं बेसी जाणै-समझै-पिछाणै, कारण साफ है कै उण री सदीव भेंटा बां सूं ईज हुवै। आं छळ-छंदां मांय सूं खबर रै असवाड़ै-पसवाड़ै रौ जिकौ सांच खबर मांय ढळणौ चाइजै हौ, पण नीं ढाळीज सकै तद मनोजजी कहाणीकार बणर कहाणी रचै। अर इण रचाव मांय कमती सूं कमती सबदां मांय एक सांच राखणौ ई बां रौ मूळ मकसद लखावतौ रैवै। बै कठैई सबदां नै खेलण कोनी देवै, ना ई सबदां सूं खेलै। कहाणी चालू करतां ई परिवेस अर घटना-संवाद मांय थोड़ै सबदां सूं तुरत किणी साच सामीं पाठक नै ऊभौ कर’र उण जातरा खातर टोर लेवै।
अट्टो-सट्टोका ठाकर कहाणी री बात करां तौ आं मांय कमती सबदां सूं जिण नागै सांच नै कहाणीकार रचै, बो सांच चुभतौ हुय सकै पण बो एक जरूरी सांच है। अठै बाल-विवाह अर जोर-जबरदस्ती जैड़ी सामाजिक कुरीत साथै बो सांच है जिण सूं समाज छिपला खावै, लुकतौ फिरै। ऐड़ै मांय कहाणीकार जाणै कोई आरसी लिया फगत चिलको ई नीं न्हाखै, पण बांचणियां नै दीठाव रै ऐन सामीं ऊभौ कर देवै। कहाणीकार रौ मकसद आपां री आंख्यां खोलण रौ है। पण ओ फैसलौ आपां रौ है कै आपां इण दीठाव सामीं जायर आंख्यां मींच लेवां का आंख्यां खोल सावचेत होय जावां। अठै फगत सावचेत करणौ ई कहाणीकार रौ मकसद कोनी, कहाणीकार री चावना है कै सामाजिक चेतना रै इण सुर नै आपां सुणा अर बगतसर कीं करां।
आंख्यां खोलण अर कीं करण पेटै दोय कहाणियां माथै भळै बात करां। संग्रै री चान्दाअर किंयाकहाणी री कथा-वस्तु मांय जिण ढाळै री बोल्डनेस देखण नै मिलै, बा आधुनिक कहाणी री एक खास धारा कही जाय सकै। चान्दा री नायिका रै मारफत कहाणीकार बाल-ब्यांव रौ संकेत करै, पण असल मांय आ कहाणी समाजिक-चेतना मांय मूल्यां रै पतन रौ परचम लहरावै। कहाणीकार री आ दुविधा कैय सकां है कै बौ किणी अनीत नै स्वीकार करै का नीं करै रै सोच भेळै आपां नै सरीक तौ करै ई करै अर छेकड़ मांय उण नै मनचायौ मोड़ देवै। चान्दा कहाणी बांचता थकां ओळी-ओळी लखावै कै नायिका नै बचण खातर कोई घर कोनी लाधैला। पण नायिका रौ आतमधात नाटकीय अंत सौ लखावै। इणी ढाळै किंयारौ कथा-नायक जिण मनगत अर सोच नै सामीं लावै बौ उत्तर आधुनिक तौ है ईज साथै ई साथै सामाजिक पतन अर अमूल्यन कानीं सागीड़ौ संकेत पण है।
आपांरा ख्यातनांव कथाकार श्रीलाल नथमल जोशी बरसां पैली जिण सामाजिक चेतना खातर बिगुल बजायौ उणी परंपरा आं कहाणियां नै राख सकां। पारटी, जागण, बिरजौआद कहाणियां इणी परंपरा नै पोखै। कहाणीकार उणी बुणगट मांय कहाणी मांडै पण आपरी भासा अर मौलिक सोच रै पाण आधुनिक कहाणी सूं जुड़ै। अठै कहाणीकार समाज री अबखायां सूं मूंड़ौ लुकर किणी फैसनाऊ का चलताऊ बातां नै कहाणी मांय कोनी परोटै। लोग जद जागण का पारटी रै नांव माथै दिखावौ करण लागै तद कहाणीकर आपां नै चेतावै। ओ जागण भगती रै सुख री ठौड़ दुख उपजावण रौ जरियौ बणै का हियै सूं हुवण आळै हेत-मनवार री ठौड़ पारटी मांय दिखावै अर पईसा रौ खोगाळ करीजै तद कहाणी लिखीजै। बिरजौ जद सुख री उडीक मांय तर-तर दुख मांय डूबतौ जावै तद उण री कहाणी मनोजजी नै मांडै पड़ै। आ कहाणीकार री मजबूरी है कै बो जिण घटना-प्रसंगां अर सांच सूं बाथेड़ौ करै तद खुद री निरायती खातर काहणी रै आंगणै बारंबार ढूकै।
सरल-सीधी अर सारआळी बात तौ आ है कै आं कहाणियां री सरलता-सहजता ई सगळा सूं मोटी खासियत बणर सामीं आवै। बिना किणी लाग-लपेट रै कहाणीकार आपां री लौकिक कथा-परंपरा नै परोटतौ थकौ किणी बातेरी दांई जद कहाणी रचण लागै तद बौ आपरी भासा, संवादां रै पाण चरित्र-चित्रण करतौ-करतौ बिना किणी उळझाव रै पाठकां रै हियै तांई मरम आळी बात पूगावण मांय सफल रैवै।
किंयारी इण पड़ताळ पछै आ बात पुखता हुवै कै मनोज कुमार स्वामी रै लेखन री केंद्रीय विधा कहाणी है। बां री दूजी विधावां- कविता, नाटक आद रै लेखन मांय आपां देख सकां कै कथात्मता रौ पलड़ौ भारी रैवै। इण कहाणी-संग्रै री केई कहाणियां सूं राजस्थानी कहाणी जातरा मांय बधापौ हुवैला अर बरसां तांई बै पढेसरियां नै याद रैवैला। उम्मीद करूं कै किंयारौ कोई उथळौ कहाणियां बांच कहाणीकार नै आप ई लिखोला।
नीरज दइया
20 नवम्बर, 2011
टीपू सुल्तान रौ जलमदिन

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 31 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

Google+ Followers