Sunday, April 10, 2016

बुलाकी शर्मा सूं नीरज दइया री बंतळ

§  नीरज दइया - आप लेखन कद सूं कर रैया हो?
§  बुलाकी शर्मा - नियमित रूप सूं म्हारो लेखन 1978 सूं सरू हुयो। बियां स्कूल में पढती वेळा ई म्हारी एक दो बाल कथावां कैवो कै बोध कथावां बरस 1971-72 में नवभारत टाइम्स अर दैनिक हिंदुस्तान में छपी।
§  नीरज दइया - लेखन री पैली भासा राजस्थानी ही का हिंदी?
§  बुलाकी शर्मा - राजस्थानी अर हिंदी में लगैटगै बरोबर लिखणो चालू हुयो।  
§  नीरज दइया - आप राजस्थानी अर हिंदी दोनूं भासावां में लगोलग लिखो, आपरी पैली प्रकाशित रचना हिंदी ही का राजस्थानी?
§  बुलाकी शर्मा - पैली रचना संभवत राजस्थानी ही। आप मान सको कै सरुआत राजस्थानी में करी अर बां दिनां चावी पत्रिका “झुणझुणियो” रो पैलो अंक निकळियो अर म्हनै चेतै आवै कै रचना “म्हैं लारै हूं” साम्हीं आई। इणी ढाळै डूंगरगढ़ सूं प्रकासित “राजस्थली” में ‘मिनख’ नांव री लघुकथा छपी। अर उणी टैम हिंदी में पैली व्यंग्य रचना ‘बजरंग बली की डायरी’ नांव सूं मुक्ता में छपी, उण पछै लिखणो-छपणो लगोलग चालै।
§  नीरज दइया - आप कहाणियां अर व्यंग्य विधा भेळै बाल-साहित्य ई लिख्यो। खुद री मूळ विधा किण नै मानो। आपरै हिसाब सूं आपनै व्यंग्यकार कैवां का कहाणीकार।
§  बुलाकी शर्मा - व्यंग्य रै हिसाब री बात करो तो मूळ में सरूवात व्यंग्य सूं ई हुयोड़ी है। झुणझुणियो में छपी रचना लघु हास्य व्यंग्य रचना ही अर राजस्थली में मिनख लघुकथा ई मूळ में व्यंग्य रो सुर लियां ही। म्हैं खुद नै व्यंग्यकार का कहाणीकार रूप नीं एक रचनाकार रूप मानूं। विधा तो एक माध्यम है खुद री बात कैवण रो। त्रासदी आ हुवै कै म्हारै कहाणी-संग्रै रै लोकार्पण में हैडिंग बणै “व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा के नए कहानी संग्रै का लोकार्पण”। म्हनै लागै कै म्हारी व्यंग्य रचनावां पाठकां नै बेसी आवै, सो कैय सकां कै व्यंग्यकार रूप घणो मानो। जद कै म्हारो राजस्थानी भाषा साहित्य एवं संस्कृति अकादमी म्हनै कहाणी संग्रै हिलोरो माथै शिवचंद भरतिया गद्य पुरस्कार ई सूं सम्मान करियो। अर हिंदी व्यंग्य संग्रै दुर्घटना के इर्द-गिर्द माथै राजस्थान साहित्य अकादमी उदयपुर सूं कन्हैयालाल सहल पुरस्कार सम्मान रूप मिल्यो। अबै आप बातावो म्हैं कहाणीकार हूं का व्यंग्यकार।
§  नीरज दइया - आप नाटक अर उपन्यास ई लिख्या हो, कांई आप रो रचनाकार कविता ई लिखी का आगै कवि रूप साम्हीं आवैला। कारण कै आपरै पैलै व्यंग्य संग्रै रो नांव हो “कवि-कविता अर घर-आळी”?
§  बुलाकी शर्मा - साची बात कै म्हैं गद्य री लगैटगै सगळी विधावां में लिखतो रैयो हूं, पण कविता हाल कोनी लिखी। कविता रै बारै मांय म्हनै लागै कविता लिखणी भाई लोग समझै जित्ती सौरी कोनी। कविता लिखणो म्हारै वास्तै मुसकिल है कारण कै म्हैं कविता नै सगळी विधावां मांय मुसकिल विधा मानूं। म्हैं समझ नीं सकूं कै आजकालै तो हरेक ई कविता मांडै अर सरूआत ई कविता सूं करै। आ कोनी कै म्हारै कविता लिख्योड़ी कोनी, लिख्योड़ी पड़ी है, बां नै बारै कोनी निकाळी कारण कै म्हैं बां नै कविता कोनी मानूं।
§  नीरज दइया - आप आपरै लिख्योड़ी कविता नै कविता कोनी मानो तो लगतै हाथ आ ई बतावो कै आप किण-किण नै राजस्थानी कवि मानो जिकां री लिख्योड़ी कविता असली कविता है?
§  बुलाकी शर्मा - राजस्थानी में कवि घणा है। किणी नै कवि हुवण अर कवि नीं हुवण रो कोई प्रमाण-पत्र देवण रो अधिकार म्हनै कोनी। हां, आं कवियां मांय म्हैं म्हारी पसंद रा केई कवियां रा नांव बता सकूं। जियां मोहनजी आलोक म्हनै खास दाय आवै। कारण कै आप कविता मांय घणा प्रयोग करिया। नवाचार री बात करां तो बै डांखळो अर सॉनेट राजस्थानी में लेय’र आया। लंबी कविता री बात करां तो अर्जुनदेवजी चारण री कविता घणी आच्छी लागै। आईदान सिंहजी, पारसजी, सेठियाजी, भागीरथ सिंह ‘भाग्य’, ओम पुरोहित ‘कागद’ आद पुराणी परंपरा नै आधुनिक बणावण में उस्ताद। अर उस्तादजी भेळै नारायण सिंहजी, मुकुलजी, मनुज देपावत, गिरधारीदानजी, सद्दीक साब, शक्तिदानजी, शिवराजजी छंगाणी आद केई नांव चेतै आवै। बाद रै युवा कवियां में देखां तो खासा नांव है- जियां आप खुद नीरज दइया री कविता म्हनै पसंद है।
§  नीरज दइया - सा आ तो म्हैं हाजर री हांती मानूं, आप सूं असली कवियां रा नांव जाणनो चावूं?
§  बुलाकी शर्मा - म्हारो मानणो है कै नवी अर चोखी चीज हरेक नै दाय आवै। आप री कविता पसंद है तो आ बात आज नीं म्हैं पैला ई आपनै अर दूजा मित्रां नै कैवतो आयो हूं। नांव गिणावां तो लांबी लिस्ट बण जासी.. असली बात आ कै कवियां में केई कवि फगत राजी हुवै कै म्हैं कवि हां, पण बै कवि कोनी। हरेक कवि नै खुद रो मूल्यांकन खुद नै करणो चाइजै। अर दूजी बात आ कै ऐ बातां म्हैं एक  व्यंग्यकार-कहाणीकार रूप में कैवूं जणा किणी रै गळै उतरै का नीं उतरै। ओ काम आलोचना रो है। आप खुद आलोचक हो, आ पड़ताल करो।
§  नीरज दइया - चालो कवियां नै छोड़ दां, आप दस टाळवां कहाणीकारां रा नांव जिका आप नै घणा दाय आवै बै बताओ।   
§  बुलाकी शर्मा - नांव री गिणती में तो बा ई बात हुयगी जियां थे टोप टेन कवियां रा नांव आलेख मांय लिख्या। बाद में जिका छूटग्या बां री नाराजगी रैयी, इणी ढाळै आप रो दूजो काम बिना हासलपाई देख सकां जिण में पचीस कहाणीकार मांय जिका नाम छूटग्या, बै राजी नीं है।
§  नीरज दइया - तो रोकै कुण है सा। हरेक काम री एक सींव हुवै। डॉ. अर्जुनदेवजी री पोथी में पांच कहाणीकारां रो खास मूल्यांकन हो अर म्हैं पचीस कहाणीकार नीं बां री कहाणियां नै दाखलै रूप ली। बो असल मांय कहाणी रो मूल्यांन मानो, आ जरूर है कै बो आंकड़ो पच्चीस तांई पूग्यो। अबै कोई आवणियो उण सूं बेसी करसी। म्हैं आ अरज करूं कै आलोचक अर व्यंग्यकार तो इण ढाळै री बातां पकड़ लेवै। आप व्यंग्य मांय जिकी पीड़ नै उठावो बां आपरी आलोचना-दीठ सूं ई आप छांट सको। साहित्य-समाज री अवळायां माथै आप खूब व्यंग्य लिख्या। उण लारै कोई कूड़ी का गोडै घड़ी बातां तो हुवै कोनी। असल में लागै कै आप केई साहित्यकारां सूं परेसान रैया हो, तद ई तो बां री रचनावां अर सुभाव नै व्यंग्य रै मारफत प्रगट करो।  
§  बुलाकी शर्मा - देखो भाई नीरज, म्हैं किणी साहित्यकार सूं परेसान कोनी। सगळा सूं म्हनै अपणायत मिलती रैयी है। अर म्हारी कोसीस ई आ रैयी कै किणी साहित्यकार री भावना नै ठेस नीं पूगै। वै चायै म्हारै सूं पैली पीढ़ी रा हुवै का म्हारी अर नवी पीढी रा हुवै पण म्हैं हरेक री साहित्य-सेवा रो मन सूं सम्मान करूं। पण जिका साहित्यकार सिरजण रै साथै पुरस्कारां हासिल करण खातर गणित में लाग्या रैवै, अर वै मूंडै देख बात करणिया बगत बदळतां ई आप रा सुर अर गीत बदळ लेवै। बां री ध्यावनावां बदळ जावै। इण ढाळै री प्रवृतियां माथै व्यंग्य हुवै ना कै किणी मिनख का साहित्यकार माथै।  एक रचनाकार रूप किणी दूजां नै लाग सकै कै इण भांत री कमियां म्हारै खुद मांय़ है। आज हालत आ बणगी कै आपां जे कोई खरी बात कैवां तो लोग सैन कोनी करै। आप साची बात मन री कर रैया हो अर लोग समझै घात करै। भायलां में बैर हुय जावै, तद म्हारी अक्कल व्यंग्यकार रूप इत्ती पोची कोनी कै इसी बात किणी रो नांव लेय करूं। आपां नै तो बस मीठी-मीठी अर मन भावती बातां करणी चाइजै।
§  नीरज दइया - इण रो मतलब म्हैं कवि कोनी। आप म्हनै कवि कैयो कारण कै आप मीठी-मीठी अर मन भावती बातां करो।
§  बुलाकी शर्मा - आ म्हैं कद कैयी। म्हैं तो कैयो कै आप जद टोप दस नांव कवियां रा लेवो तो जिको कवि उण मांय कोनी उण नै लागै कै फलाणजी कवि रै नांव री जागा म्हारो का फलाणजी कवि रो नांव ठीक लागतो। अबै दस मांय सूं जे आप रा सात-आठ कवियां रै नांव सूं म्हैं सहमत हूं, तो आपरी बात अर काम ठीक मानूं। जियां थे आलोचक अर म्हैं व्यंग्यकार हूं, तो कांई बिरमा जी री सगळी बातां सगळा नै दाय कोनी आवै। असल बीमारी आलोचना नै राजस्थानी रा रचनाकार सैन कोनी करै। परंपरागत कविता री परंपरा में तो बस रंग ई रंग अठै रैयो। ओ अतिश्योक्ति अलंकार कांई है! राजस्थानी में आलोचना नै म्हैं इक्कीसवीं सदी री चीज मानूं। बीसवीं सदी रा लोग मोटा है बै सैन कोनी करै अर म्हारी अरज नवा लेखकां-कवियां सूं है कै बै काळजो मोटो राखै अर आलोचक री बात माथै कान देवै अर ध्यान देवै।
§  नीरज दइया - आप बात नै फेर गोळ कर दी। चालो आप इक्कीसवीं सदी रै रचनाकारां खातर दस कहाणीकारां रा नांव आपरी पसंद रा बताओ। चालो दस कहाणीकारां री छोड़ां, आप खुद गद्यकार लूंठा हो, लारै रैया नव नांव। टाळवां गद्यकारां रा नांव आप बताओ।
§  बुलाकी शर्मा - (हंस’र) जद एक आलोचक रूप म्हनैं एक टाळवो गद्यकार मानो, तद म्हारो ई नैतिक दायित्व बणै कै एक टाळवो रचनाकार म्हैं थानै मानूं ईज। आप म्हनै उळझावण री कोसीस कर रैया हो पण म्हैं उळझूं कोनी। व्यंग्यकार तो दुसालै में लपेट’र जूतो मारै अर थे ओ दुसालो खोसणो चावो। सीधो जूतो मारणो आलोचना विधा में संभव हुवै। म्हैं कैवणी चावूं कै सरूआत मांय सिरजण सूं जद जुड़ियो तद म्हारै शहर रा म्हनै खास तौर माथै श्रीलाल नथमल जोशीजी अर यादवेंद्र शर्मा चंद्रजी घणो प्रेरित करियो, कैवां कै वां री आसीस मिली।  
§  नीरज दइया - म्हनै लागै कै राजस्थानी में व्यंग्यकार तो दस ई कोनी। आप कांई मानो?
§  बुलाकी शर्मा - ओ बैम रैया करै, पतो नीं म्हैं तो सोचूं कै तकड़ो एक व्यंग्यकार तो म्हैं हूं ई। बाकी व्यंग्यकारां री बात करां तो युवावां में शंकरसिंह म्हनै व्यंग्यकार रूप दाय आवै। उणा रो जिको अंदाज है, साथै व्यंग्य में भासा अर व्यंग्य री पकड़ सरावणजोग है। नागराजजी शर्मा, श्याम गोइंकाजी, मनोहरसिंहजी राठौड़, त्रिलोकजी गोयल, देवकिशनजी राजपुरोहित, मदन केवलिया साब, मनोहर लालजी गोयल आद घणा रचानाकार व्यंग्य विधा में बरोबर सिरजण कर रैया है। पण अजै घणो काम व्यंग्य में हुवणो बाकी है। सांवरजी नै आपां एक कहाणीकार रै रूप में आदरां जद कै वां रो व्यंग्य विधा में सरावणजोग काम रैयो। बां रै नीं रैयां आपां साम्हीं बां री पोथी  “इक्यावन व्यंग्य” इण री साख भरै। बै नृसिंहजी रै कैवणै सूं व्यंग्य लिख्या। म्हैं ई व्यंग्य लिख्या अर लोगां रो मानणो है कै व्यंग्य री पैली पोथी राजस्थानी में म्हारी ई छपी। “कवि, कविता अर घरआळी” रो जस हरख री बात मानूं। मेहतावू बात आ कै इण पोथी रा पूरा रा पूरा व्यंग्य “माणक” मांय नृसिंहजी प्रकासित करिया। पोथी छप्यां पछै बै सहमति लेय’र म्हनै लगोलग छाप्यो उण सूं म्हारी ओळखाण व्यंग्यकार रूप हुई। आ म्हैं म्हारै व्यंग्य री का व्यंग्यकार री तारीफ कोनी कर रैयो। बतावणी चावूं कै बां नै व्यंग्य रो तोड़ो लाग रैयो हो इणी खातर बै म्हनै लगोलग कैय’र मांग माथै व्यंग्य लिखवावतां रैया अर म्हैं लिखतो रैयो।  
§  नीरज दइया - कांई व्यंग्य अर हास्य व्यंग्य मांय फरक हुवै का एक ई बात है?
§  बुलाकी शर्मा - लोग व्यंग्य अर हास्य मांय फरक कोनी समझै। दोनां नै एक ई समझै जद कै व्यंग्य विसंगतियां माथै चोट कर मांयली मार करै अर करुणा उपजावै जद कै हास्य आपां नै हंसावै-गुदगुदावै। व्यंग्य उपचार खातर प्रेरित करै अर आपां नै दीठ देवै। हास्य ई आपां सगळा खातर जरूरी हुवै। आ म्हैं समझूं, सगळा समझै अर म्हैं कोनी नई बात कोनी कैय रैयो।
§  नीरज दइया - आज केई पुराणा लेखक खुदोखुद री खुरचण खावै, नवो नीं लिख रैया है। मंचां माथै बातां अर ग्यान देवण रो जाणै जिम्मो लेय लियो अर दूजै कानी इणी दौर मांय नवा लिखारा लगोलग लिख रैया है। आप नवा रचनाकारां री रचनावां अर पोथ्यां देखता रैवो। बां बाबत कीं बात बताओ कै आज बै मोरचो कियां ठीक सांभ राख्यो है? नवै टाळवै लेखकां रा नांव आपरी निजर में?
§  बुलाकी शर्मा - म्हनै म्हारी बाद री पीढी सूं घणी उम्मीदां है। बै साहित्य री सगळी विधावां में सांतरो मोरचो सांभ राख्यो है। दाखलै रूप मंडाण में सामिल युवा कवियां सूं उम्मीदां है। युवा रचनाकारां री सांवठी पीढी अबै तैयार हुवती दीख रैयी है। घणा ई नांव है। अबार जिका नांव हाथूहाथ मूंडै माथै आवै, बां मांय सूं घणा नांव म्हैं एकाएक चेतै नीं लाय सकूं। पण फेर ई राम स्वरूप किसान, नीरज दइया, नवनीत पाण्डे, रवि पुरोहित, विनोद स्वामी, सतीश छीम्पा, संतोष मायामोहन, शारदा कृष्ण, ओम नागर, दुलाराम सहारण, कुमार अजय, डॉ. सत्यनारायण सोनी, भरत ओळा, पूरण शर्मा, मधु आचार्य ‘आशावादी’, भविष्य दत्त, अतुल कनक, राजेन्द्र जोशी, मदन गोपाल लढ़ा, उम्मेद धानिया आद रचनाकारां सूं उम्मीदां है। 
§  नीरज दइया - कहाणीकारां रै नांव माथै कहाणी परंपरा नै जुग रूप देखण पेटै डॉ. चेतन स्वामी रै एक आलेख मांय कहाणीकारां रै नाम माथै काल-विभाजन करण माथै खासी चरचा रैयी। आपरो कांई मानणो है कै काहाणीकरां रै नांव माथै काल विभाजन हुवणो चाइजै का आ हासलपाई फगत भाईचारै नै आगै बधावण री है। आप व्यंग्यकार हो अर बात नै समझो, तो म्हैं बिना किणी व्यंग्य रै आप सूं पूछणो चावूं कै कांई आप नै एक कहाणीकार रै रूप मांय ओ काल-विभाजन ठीक लागै?
§  बुलाकी शर्मा - म्हैं पूरी तरै आईजी (आईदानसिंह भाटी) री बात सूं सैमत हूं कै कहाणीकारां रै नांव माथै काल-विभाजन जाबक ई खोटो है। आ तो भायलाचारै में चेतन स्वामी बिना किणी तार्किकता रै जुग थरप दीन्या। पोमीजो भलै ई, होवणो ओ चाहिजै कै बै कहाणीकार खुद इण भांत रै काल-विभाजन नै अतार्किक मान नै खारिज करता। पण जिका खुद नै प्रेमचंद सूं कीं बेसी ई मानण लागण लाग्या हुवै तो वां रो इलाज परमातमा कन्नै ई कोनी। म्हारो मानणो है कै जे कहाणीकारां माथै काल विभाजन करां तो अजै सांवर दइया जुग ई चाल रैयो है। आ म्हैं मानूं कै सांवरजी री कहाणी पछै हाल बां री परंपरा नै ई आज तांई कहाणीकार पोख रैया है। जिण भांत रा नवाचार सांवरजी कहाणी में करिया उण नै टाळ’र उण परंपरा नै नवी करण वाळो कोई नांव है तो बताओ? थे आलोचक हो बता सको। पण म्हैं कोई आलोचक कोनी। बरसां सूं लिखण-बांचण रो काम करूं पण फेर ई खुद रै लेखन सूं हाल घणी उम्मीद करूं कै की नवो अर टाळवो कीं लिखणो वाकी है।
§  नीरज दइया - आप जद कोई बात कैवो तद ओ ठाह करणो मुसकिल हुवै कै खरी बात कैय रैया हो का कोई व्यंग्य में खारी बात कैय रैया हो। खरोखरी आप कांई कैवो?
§  बुलाकी शर्मा - खरोखरी तो आ है कै कहाणी री बात करां तो हाल तो आ ई ठाह कोनी कै राजस्थानी री आधुनिक पैली कहाणी किसी मानां। कुण लिखी, कद छपी आ तो बताओ। लोककथा सूं कहाणी नै आधुनिक बणावण में घणा कहाणीकारां रो योगदान रैयो। जियां प्राणेसजी, सुदामाजी, चंद्रजी, करणीदानजी, नृसिंहजी, भ्रमरजी, रामेश्वरदयालजी कित्ता नांव गिणावूं।

§  नीरज दइया - आपरी व्यंग्य विधा में पैली पोथी आयोड़ी मानीजै, जणा म्हनैं लागै कै व्यंग्य रा प्रेमचंद तो आप हुयग्या।
§  बुलाकी शर्मा - ओ सवाल जम्यो कोनी भाई। हिंदी में प्रेमचंद उपन्यास सम्राट रै रूप आदरीजै अर व्यंग्य में परसाईजी सिरै गिणीजै। व्यंग्य में म्हैं कीं नवो करण री खेचळ करतो रैयो हूं। इण में पास-फेल रो फैसलो तो आप सरीखा आलोचक करसी। हां भाई मीठेस निरमोही म्हनै आ बात बतायी कै बिज्जी म्हारै व्यंग्य री पोथी बांच’र म्हनै राजस्थानी रो परसाई कैयो, जे वां आ बात कैयी तो म्हारै सारू किणी पुरस्कार सूं कमती कोनी।
§  नीरज दइया - राजस्थानी पत्र-पत्रिकावां, पोथ्यां, पुरस्कार अर अकादमी बाबत बात करां। साहित्य अकादेमी पुरस्कार पेटै हुयै रोळै बाबत आप कांई मानो?
§  बुलाकी शर्मा - पुरस्कार तो एक सामाजिक स्वीकृति है। लौटावणो म्हारी दीठ मांय ठीक कोनी। इण नै गळत मानूं। असहमती दरज कराण रा दूजा घणा माध्यम है। म्हारो मानणो है कै पुरस्कार सब कुछ कोनी हुवै पण जद मिल जावै तो सम्मान सूं उण नै स्वीकार कर’र राखो।
§  नीरज दइया - प्रकासन-संकट पेटै?
§  बुलाकी शर्मा - ओ संकट तो है अर इण रो कारण आपां रा पाठक बेसी कोनी। जे लेखक ई पाठक बण’र आपरै साथी लेखकां री पोथ्यां खरीद’र बांचणी सरू कर दे तो इण दिस सुधार हुय सकै। असल में आपां रै अठै बिक्री रो माध्यम सावळ कोनी जद आ बात संकट रूप लखावै।
§  नीरज दइया - पोथ्यां री सरकारी खरीद पेटै लेखक कांई कर सकै?
§  बुलाकी शर्मा - लेखकां कानी सूं  सरकार माथै दवाव वणावणो चाइकै कै सरकार कानी सूं पोथ्यां री खरीद पेटै कीं सावळ नीति तय करीजै।  जियां कै राजस्थान में साठ प्रतिशत पोथ्यां राजस्थानी भासा-साहित्य री खरीद हुवणी चाइजै।
§  नीरज दइया - सरकार कोई बात सोरै सांस कियां सुणै? लेखक समाज तो बरसां सूं मान्यता री बात कैय रैयो है, पण सुणी-अणसुणी चाल रैयी है। आज जद समाज भासा अर साहित्य सूं नीं जुड़ रैयो है? अबै कांई कोई आस करां?
§  बुलाकी शर्मा - आपां रा बड़ा लेखक बरसां सूं मान्यता रो सपनो लेय’र गया परा। ओ सपनो देखां कद पूरो हुवै। बरसां सूं आ मांग चाल रैयी है अर आस अमर धन हुवै। म्हैं पत्र-पत्रिकावां री इण में मोटी भूमिका मानूं। बरसां सूं लेखक आपरै निजू साधनां सूं पत्रिकावां निकाळै अर पोथ्यां छपवावै। आं दिनां पत्र पत्रिकावां री बात करां तो कथेसर, लीलटांस, अपरंच, बिणजारो, अनुसिरजण, मरुधरा, राजस्थली आद पत्रिकावां चोखो काम कर रैयी है। रचनावां रो चयन अर भासा पेटै सजगता निगै आवै।
§  नीरज दइया - ‘जागती जोत’ आं दिनां सूनी पड़ी है!
§  बुलाकी शर्मा - आ सरकारी रीत-नीत है। सरकार री प्राथमिकता में साहित्य कोनी। जद जागसी तद दिन हुसी अर अकादम्यां सक्रिय हुसी। 
§  नीरज दइया - आं सगळी बातां अर हालातां बिचाळै कोई लेखक क्यूं लिखै।
§  बुलाकी शर्मा - लेखन असल में मन री बळत है। लिखणो मन री बळत है। आप उण मांयली लाय सूं मुगत हुवण वास्तै लिखो तो लेखक हो। इनाम-इकराम खातर लिखण वाळा नै म्हैं लेखक कोनी मानूं। पुरस्कार री बात करां तद म्हनै आदरजोग चंद्रजी री बात चेतै आवै। बै कैया करता कै सगळा पुरस्कृत रचनाकारां रा नांव किणी नै आज याद कोनी। पुरस्कार मिलण अर नई मिलण सूं कोई लेखक महान कोनी हुवै। कांई सगळी पुरस्कृत पोथ्यां रा नांव याद है कै किण नै कद इनाम मिल्यो। कांई बै सगळी पोथ्यां चावी है। पण जिकी चोखी किताबां है अर चोखा लेखक है बां रा नांव आपां नै याद रैवै। मूळ में लेखन ई मोटो हुवै अर उण सूं ई कोई लेखक लेखक बाजै।
§  नीरज दइया - मूळ में जद लिखणो आतमा री सांति का निरायंत खातर हुवै तो लिख’र घरै राख लो। कोई छपण छपावण रा अर चरचा-कूंत आद रा जंजाळां में क्यूं पजै?
§  बुलाकी शर्मा - आ बात जरूरी रैवै कै जिकी चीज लिखी है बा समाज तांई पूगै। लिखण रो एक मकसद ओ ई हुवै कै आपां आपां रै मन री बात लोगां तांई पूगावां। समाज रै बदळाव नै लेखक लिखै अर बगत साखी है कै लिख्योड़ै साहित्य सूं ई समाज मांय कीं बदळाव आवै। खुद रो सोच समाज साम्हीं राखणो ई लेखन रो मोटो मकसद मान सकां।
§  नीरज दइया - आप राजस्थानी हिंदी दोनूं भासावां में लिखो तद आं भासावां मांय फरक कांई मानो? एक सूं बेसी भासा री लेखक नै जरूरत कांई हुवै।
§  बुलाकी शर्मा - दोनूं भासावां में कोई फरक कोनी, एक राष्ट्र-भासा है अर दूजी मात-भासा है। मात भासा सूं म्हारो जुड़ाव जद आंख खोली तद सूं है। अर हिंदी सूं माध्यम भासा रै रूप में पढाई-लिखाई करी। दोनूं सूं म्हारो जुड़ाव रैयो है। विसै रै हिसाब सूं म्हैं भासा रो चयन करूं। आ पैलां सूं तय कोनी हुवै।
§  नीरज दइया - इण मांय घणो सेल-भेळ देखां। रचना तो किणी एक भासा में मूळ है, बीजी में ई बा सागण रचना अनुवाद ई हुवै। पण लेखक एक रचना नै दोनूं भासावां में मूल रचना मानै जद कांई आ लेखकीय ईमानदारी मानीजसी?
§  बुलाकी शर्मा - किणी राजस्थानी रचना नै हिंदी पाठकां तांई हिंदी में अनुवाद कर’र पूगावणो गळत कोनी। अनुवाद रै जरियै ई आपां संसार रै साहित्य सूं ओळखाण करता रैया हां। अनुवाद रै जरियै कोई रचना घणा पाठकां तांई पूगै। रचना किणी एक भासा में मूळ मानीजसी, अर दूजी में अनुवाद। बो चायै खुद लेखक करो का कोई दूजो अनुवादक। अनुवाद अनुवाद हुवै अर मूळ मूळ हुवै। ओ खेल मूळ अर ब्याज जियां है। अनुवाद असल में मूळ रो ब्याज हुवै।
§  नीरज दइया - पण घणै संकतै कैवणी चावूं कै आप ब्याज नै ई मूळ दांई परोटो। आप री केई रचनावां दोनूं भासावां में मूळ रूप साम्हीं देख सकां।
§  बुलाकी शर्मा - थारी पारखी निजर री दाद देवूं। आ साफ लागै कै थे म्हारी ई नीं केई दूजा रचनाकारां री राजस्थानी अर हिंदी री रचनावां बराबर बांचता रैया हो जणा ई लेखकां रै इण गड़बड़ नै पकड़ सक्या हो। म्हैं मानू कै म्हारी कीं रचनावां दोनूं भासावां में मौलिक रूप छपी है। पण आ बात म्हारै मांय तो कमती है, अर केई मित्र साहित्यकारां मांय कीं बेसी है। बां रो पूरो ठाह ई कोनी लागै कै किसी रचना मूळ राजस्थानी री है का बै फगत लाभ लेवण नै राजस्थानी अनुवाद कर बां नै मौलिकता रै खातै खताय दियो। इसा लेखकां खातर राजस्थानी बरसां सूं फायदो लेवण री बात रैयी है। आपां नै राजस्थानी रा साचा सपूत बण’र भासा अर साहित्य रै बधापै खातर काम करणो चाइजै।
§  नीरज दइया - किणी हिंदी रचना रै ऊपर राजस्थानी सूं अनुवाद लिखण सूं कांई राजस्थानी रो जस बेसी कोनी हुवैला।
§  बुलाकी शर्मा - म्हैं थारी बात सूं सहमत हूं। आ बात करियां हिंदी में ठाह लागैला कै राजस्थानी लेखन सांतरो हुय रैयो है। आ घणै जस री बात मानीजैला। म्हैं आगैसर आ बात घणी सावचेती सूं ध्यान राखूंला कै अनुवाद री ठौड़ अनुवाद रो खातो न्यारो करसूं।
§  नीरज दइया - आं दिनां कांई लेखन चाल रैयो है?
§  बुलाकी शर्मा - लिखणो-बांचणो तो चालतो ई रैवै। बिना लिख्यां-पढियां तो रोटी भावै कोनी अर नींद आवै कोनी। लिखणो जीव सूं जुड़ियोडो है। घणो लिख्योड़ो अजेस अणछप्यो है। आं दिनां राजस्थानी में एक कहाणी संग्रै, एक व्यंग्य संग्रै साम्हीं लावणो चावूं। फैसलो कोनी हुय रैयो कै पैली म्हारो कहाणी -संग्रै आवणो चाइजै का व्यंग्य-संग्रै। उपन्यास ई राजस्थानी में लिखण री जीव में कर राखी है देखो जद रळी पूरी हुवै। आं सगळी बातां बिच्चै म्हारी चिंता आलोचना नै लेय’र है कै लेखन री कूंत पूरी नीं करीज रैयी है। अबार तांई जिको अर जित्तो लिख्यो है उण री कूंत हुवणी जरूरी मानूं। अबै म्हैं बरस एक नै साठो-पाठो हुय जासूं। जीव में है कै कुण कूंत करैला-करावैला। दूजां री बात छोड़ा, म्हैं म्हारै लेखन री ई बात करूं तो कुण अर कद कूंत करैला। देखां आप जिसो कोई आलोचक कद खैर-खबर लेवैला।
§  म्हारो मानणो है कै आ बळत ई कूंत रो एक हिस्सो है।
§  मानग्यो भाई, अबार म्हारै लेखन माथै थारी कलम जियां चाली बा आगै ई चालती रैवै। आ आसीस अर उम्मीद तो कर सकूं। 
("लीलटांस" तिमाही संपादक- कुमार अजय ; अगस्त-अक्टूबर 2015 में प्रकाशित) 

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 31 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

Google+ Followers