Friday, September 23, 2011

दिल्ली हिंदी अकादमी के कार्यक्रम भारतीय कविता प्रसंग में काव्य-पाठ

दिल्ली हिंदी अकादमी के कार्यक्रम में काव्य-पाठ





मायनो चावूं म्हैं
सूरज चांद री गुड़कती दड़ियां सूं
नीं रीझूंला म्हैं
मयनो चावूं म्हैं
कै शेषनाग रै फण माथै है
का किणी बळद रै सींगां माथै
आ धरती
मायनो चावूं म्हैं
कै म्हारी जड़ां जमी मांय है
का आभै मांय किणी डोर सूं
बंध्योड़ो हूं म्हैं ।
मायनो चावूं म्हैं
कै किणी रिधरोही भटकूंला
का पंख लगा उडूंला आभै मांय
किणी बीजै री आंख सूं
मायनो चावूं म्हैं
कै किणी पुटियै काकै री टांगां माथै है
का किणी किसन री आंगळी माथै
ओ आभो
बिरखा-बादळी का इंदरधनख सूं
नीं रीझूंला म्हैं
मायनो चावूं म्हैं
****

कविता का हिंदी अनुवाद

जानना चाहता हूँ मैं
सूरज-चांद की गुड़कती गेंदों पर
नहीं रीझूंगा मैं
जानना चाहता हूँ मैं
कि शेषनाग के फन पर टिकी हुई है
या किसी बैल के सींगों पर
यह धरती !

जानना चाहता हूँ मैं
कि मेरी जड़ें ज़मीन में है
या आकाश में
किसी डोर से
बंधा हुआ हूँ मैं ।
जानना चाहता हूँ मैं
मैं वन-वन भटकूंगा
या पंख लगा कर उड़ूंगा
आकाश में
किसी अन्य की आँख से ।
जानना चाहता हूँ मैं
किसी बैया राजा की
टांगों पर है
या किसी कृष्ण की अंगुली पर
यह आकाश ।
बिरखा-बादली या इन्द्रधनुष से
नहीं रीझूंगा मैं
जानना चाहता हूँ मैं ।
****
अनुवाद : मोहन आलोक
  
मैंने सहेज कर रखी है
तुम्हारी स्मृति 
अभी तक नहीं भूली 
मुझ तक पहुंचने के रास्ते
मैंने सहेज कर रखी है
तुम्हारी स्मृति
अपने सपनों के संग !
सीमाएं सदैव बदली
और कुछ बदले हम भी
पर इस बदलाव में
नहीं बदली, मेरे लिए-
तुम्हारी छवि
यदि बदल जाती 
तो भूल जाती स्मृति-
मुझ तक पहुंचने के रास्ते ।
***
अनुवाद : स्वयं कवि द्वारा

अपने हिस्से की छाया
मैं थक गया
ठूंठ कहता है-
यह भी कोई जीना है
लाओ तुम्हारी कुलहाड़ी ।
मैं पहचानता हूं
प्रार्थना के भीतर छिपी लाचारी
ठूंठ करता है प्रणाम
मुक्ति की कामना में !ठूंठ के हाथ डरते हैं
जड़ों से
और मेरे हाथ
कुलहाड़ी से ।
ठूंठ के भीतर 
अभी तक मैं देखता हूं
एक लक-दक वृक्ष
और अपने हिस्से की छाया ।
खेलती है छुप्म-छुप्पी
ऋतुओं के संग
छाया अपने हिस्से की 
अपने हिस्से की छाया ।
***
अनुवाद : स्वयं कवि द्वारा

भारतीय कविता प्रसंग में कविता पाठ

दिल्ली के त्रिवेणी सभागार में 19 सितम्बर, 2011 को मूल राजस्थानी व राजस्थानी से हिंदी में कुछ कविता पढ़ना और भारतीय भाषाओं के लेखकों-कवियों के बीच राजस्थानी की बात करना एक सुखद अनुभव रहा। 



  1 comment:

  1. "सीमाएं सदैव बदली
    और कुछ बदले हम भी
    पर इस बदलाव में
    नहीं बदली, मेरे लिए-
    तुम्हारी छवि"

    बेहद सुंदर !

    "अपने हिस्से की छाया" इस कविता के ठूंठ की संवेदना भी मन को छू गई ।

    ReplyDelete

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणी-जातरा कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देवकिशन राजपुरोहित देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी राजेन्द्र शर्मा रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित सतीश छिम्पा समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती सांवर दइया पुण्यतिथि साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

Google+ Followers