बिना हासलपाई





newicon बिना हासलपाई’ (2014) डॉ. नीरज दइया, प्रकाशक : सर्जना, शिवबाड़ी रोड, बीकानेर- 334003, पाना : 160, कीमत : 240/- (समकालीन राजस्थानी कहानी-यात्रा पर आलोचनात्मक निबंध)


https://www.facebook.com/binahaslpai 






















राजस्‍थानी के युवा आलोचक डॉ नीरज दइया ने कल 20 सितंबर को बीकानेर में अपनी सद्य प्रकाशित आलोचना कृति 'बिना हासलपाई' भेंट की, नीरज ने इस कृति के माध्‍यम से आधुनिक राजस्‍थानी कहानी के विभिन्‍न पक्षों और प्रमुख कहानीकारों के अवदान का विस्‍तार से विवेचन किया है, राजस्‍थानी आलोचना के क्षेत्र में यह पुस्‍तक निश्‍चय ही एक उल्‍लेखनीय उपलब्धि है।
 — Nand Bhardwaj 21 September 2014 at 10:47 



डॉ. नीरज दइया की प्रकाशित पुस्तकें :

हिंदी में- कविता संग्रह : उचटी हुई नींद
व्यंग्य संग्रह : पंच काका के जेबी बच्चे, टांय-टांय फिस्स
आलोचना पुस्तकें : बुलाकी शर्मा के सृजन-सरोकार, मधु आचार्य ‘आशावादी’ के सृजन-सरोकार, कागद की कविताई
संपादित पुस्तकें : आधुनिक लघुकथाएं, राजस्थानी कहानी का वर्तमान, 101 राजस्थानी कहानियां, रेत में नहाया है मन (राजस्थानी के 51 कवियों की चयनित कविताओं का अनुवाद)
अनूदित पुस्तकें : मोहन आलोक का कविता संग्रह और मधु आचार्य ‘आशावादी’ का उपन्यास
शोध-ग्रंथ : निर्मल वर्मा के कथा साहित्य में आधुनिकता बोध
राजस्थानी में- कविता संग्रह : साख, देसूंटो, पाछो कुण आसी
आलोचना पुस्तकें : आलोचना रै आंगणै, बिना हासलपाई
लघुकथा संग्रह : भोर सूं आथण तांई
बालकथा संग्रह : जादू रो पेन
संपादित पुस्तकें : मंडाण (51 युवा कवियों की कविताएं), मोहन आलोक री कहाणियां, कन्हैयालाल भाटी री कहाणियां, देवकिशन राजपुरोहित री टाळवीं कहाणियां
अनूदित पुस्तकें : निर्मल वर्मा और ओम गोस्वामी के कहानी संग्रह ; भोलाभाई पटेल का यात्रा-वृतांत ; अमृता प्रीतम का कविता संग्रह ; नंदकिशोर आचार्य, सुधीर सक्सेना और संजीव कुमार की चयनित कविताओं का संचयन-अनुवाद और ‘सबद नाद’ (भारतीय भाषाओं की कविताओं का संग्रह)
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992

डॉ. नीरज दइया (1968)
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै