Sunday, July 26, 2015

"चेखव की बंदूक" यानी "बीएस फिफ्टी वन"

बुलाकी शर्मा की पुस्तक के लोकार्पण के अवसर पर पठित पत्र-वाचन, दिनांक 26-07-2015 बीकानेर

          आज के कार्यक्रम के अध्यक्ष मेरे आदरणीय गुरु श्री भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ के श्रीचरणों में वंदन, कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सम्माननीय श्री लूणकरणजी छाजेड़, स्वागताध्यक्ष कवि-कथाकार श्री मधु आचार्य ‘आशावादी’, व्यंग्यकार-अनुवाद सर्वप्रिय श्री बुलाकी शर्मा, सर्वाधिक प्रिय श्री राजेंद्र जोशी, भाई शंकरसिंह राजपुरोहित, डॉ. नमामीशंकर आचार्य, डॉ. प्रशांत बिस्सा एवं आप सभी सम्मानित-स्नेही आत्मीय स्वजन।
          मुझे चेखव की बंदूक पर बोलना है और बड़े खेद के साथ कहना चाहता हूं कि मुझे चेखव की बंदूक नहीं वरन एक किताब दी गई है, जिस पर शीर्षक लिखा है- चेखव की बंदूक। मुक्ति के आमंत्रण के साथ श्री राजेंद्र जोशी ने फोन पर सूचित किया कि जल्द ही मुझे चेखव की बंदूक भेज रहे हैं और उस पर मुझे लोकार्पण में पत्रवाचन करना है। मैंने सर्वप्रथम तो विचार किया कि जोशीजी भी क्या.... अच्छे-भले कार्यक्रम करवाते-करवाते आजकल बंदूक का भी लोकार्पण करने लग गए, और वह भी चेखव की। ऐसी जबरदस्त ऐतिहासिक धरोहर जोशीजी को मिली कहां से? इससे पहले तक तो यह आलम था कि जब कभी "बंदूक" शब्द मेरे मानस पटक पर आता तो एके 47 की आकृति उभरती। अब यह आलम है- "बंदूक" शब्द के साथ जेहन में जो आकृति उभरती है, निसंदेह उसका नाम "चेखव की बंदूक" है। कवि श्री कृष्ण कल्पित ने फेसबुक पर चेखव की बंदूक के समानांतर नाम लिखा "बुलाकी की बंदूक"। लगभग चालीस वर्षों की सतत व्यंग्य-साधना के साधक श्री बुलाकी शर्मा ने उदारता पूर्वक अपने स्थान पर चेखक का नाम लिखा है। इन इक्यावन रचनाओं को देखते हुए मैं "एके47" की तर्ज पर "बीएस51" नाम प्रस्तावित करता हूं। मेरा अनुरोध है कि "बीएस फिफ्टी वन" (यानी बुलाकी शर्मा के इक्यावन व्यंग्य) का करतल ध्वनी से स्वागत करें। व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा को बहुत-बहुत बधाई।
          व्यंग्य-परंपरा में श्री भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ का अपना कीर्तिमान है और संयोग से गुरुदेव मंचस्थ भी हैं। इस आलेख को तैयार करना, मेरे लिए बेहद कठिन रहा। किताब के विषय में लिखना हो, उसमें यदि भूमिका श्री भवानीशंकर जी की हो तो आप गए काम से। लिखते समय आप दूसरे के लिखने को कुछ छोड़ते ही नहीं, सभी खास-खास बातें तो लिख दी गई है बाकी रहा क्या है। "बीएस51" के विषय में भूमिका में कुछ विशेषताएं लिख कर स्थानाभाव के कारण अन्य विशेषताएं जो छोड़ दी गई है, मैं उन तक पहुंचने का प्रयास करूंगा। अक्सर भूमिका लेखक पुस्तक की भूमिका लिखते समय कमियां गिनाना छोड़ देते हैं, उसको भी यहां लिया जा सकता है। किंतु इसमें दो खतरे हैं। एक तो आज पुस्तक का लोकार्पण-समारोह है, पुस्तक-चर्चा का आयोजन नहीं। दूसरा खतरा तो इससे भी बड़ा और दमदार है, समझदार को इशारा ही काफी है कि जनाब मामला "बीएस फिफ्टी वन" का है और शहीद कौन होना चाहेगा। किसी व्यक्ति या संपत्ति की सुरक्षा, निजी सुरक्षा और शिकार के इस्तेमाल में लाई जाने वाली बंदूक का लाइसेंस ही आमतौर पर जारी होता है। किंतु यहां यह भी स्पष्ट करता चलूं कि "बीएस फिफ्टी वन" को लाइसेंस देने वाले व्यंग्य विधा के पंच परमेश्वर हैं- सर्वश्री भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’, फारूक आफरीदी, पूरन सरमा, अरविन्द तिवारी और यशवंत कोठरी। एक ने भूमिका लिखी है, दूसरे ने फ्लैप और अन्य तीन की टिप्पणियां "बीएस फिफ्टी वन" में दर्ज है। तिस पर यह पुस्तक बलराम और प्रेम जनमेजय को सादर समर्पित है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि यह सब बातें मैं अभिधा में कह रहा हूं।
          वरिष्ठ साहित्यकार भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ के अनुसार बुलाकी शर्मा की सबसे बड़ी सफलता छोटे-छोटे लेकिन विचार-उत्पादक व्यंग्य-विषयों को कुशलतापूर्वक निभा जाना है।
          वरिष्ठ व्यंग्य-लेखक फारूक आफरीदी ने लिखा है- बुलाकी शर्मा की रचनाएं प्रतिबद्धता के साथ सामाजिक-राजनीतिक विडंबनाओं और विद्रूपताओं के घिनौने चेहरों को बड़े करीने से परत-दर-परत बेनकाब करती नज़र आती हैं।
          हिन्दी गद्य व्यंग्य-लेखन में जिन व्यंग्यकारों ने गम्भीरता से इस महत्त्वपूर्ण व कठिन विधा को निरन्तर प्रयोगशील व सार्थक बनाया है, उनमें पूरन सरमा एक अत्यन्त विश्वसनीय व पठनीय नाम है और सरमा का शर्मा के बारे में मानना है कि व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा इस कृति में बहुत ही सधे हुए स्वरूप में सामने आते हैं और असंगत मूल्यों की बखिया उधेड़ते हैं।
          प्रतिष्ठित व्यंग्यकार अरविन्द तिवारी कहते हैं कि बुलाकी शर्मा के व्यंग्यों में जहाँ विषयों की विवधता है, वहीं प्रहार करने की क्षमता देखते बनती है।
          चर्चित व्यंग्यकार यशवंत कोठारी लिखते हैं कि व्यंग्य वही लिख सकता है जिसने जीवन में अभावों को जीया हो, सहा हो, जिसके सीने में दर्द हो। वैसा ही दर्द बुलाकी शर्मा के सीने में है और वे इसे कागज पर उतार कर हमें अनुगृहीत करते हैं।
    "बीएस फिफ्टी वन" की रचनाओं में व्यंग्य का पैनापन, प्रस्तुति का चुटीलापन और भाषा का बांकपन है, इसमें व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा की तटस्थ, निष्पक्ष और पारदर्शी दृष्टि देखी जा सकती है। भीतर-ही-भीतर तिलमिलाने वाले व्यंग्य हैं और सांप भी मर जाए, लाठी भी नहीं टूटे जैसी शैली में। अन्य लोगों पर व्यंग्य करने से पूर्व रचनाकार खुद अपने पर निशाना साधता है। यहां पूरा लेखन व्यष्टि से हट कर समष्टि पर लागू होता संभव हुआ है।
          राजस्थानी में प्रकाशित "कवि-कविता अर घरआळी", "इज्जत में इजाफो" और हिंदी में "दुर्घटना के इर्द-गिर्द", "रफूगिरी का मौसम" पूर्व व्यंग्य संग्रह और हालिया सबूत "चेखव की बंदूक" यानी बुलाकी शर्मा के इक्यावन व्यंग्य जिसे शोर्ट में "बीएस फिफ्टी वन" कहा गया है के आधार पर यह कहा जा सकता है कि सीधे-सीधे और कभी-कभी उलटे-सीधे ढंग से व्यंग्य  रचना व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा की आदत में शुमार है। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि आपको "दुर्घटना के इर्द-गिर्द" पैनी दीठ रखने पर राजस्थान साहित्य अकादमी द्वारा आज से १६ बरस पहले "कन्हैयालाल सहल" पुरस्कार अर्पित कर हरी झंडी दिखाई गई थी। "इज्जत में इजाफो" होते-होते रह जाना मित्रों की मित्रता है, जिसे आपने हंसते-हंसते झेला और इस दुर्घटना की पीड़ा "बीएस फिफ्टी वन" में यत्र-तत्र कहे सर्वत्र साफ झलती है। बिना पुरस्कार बैकुंठ धाम नहीं जाना और सपनों में भी पुरस्कारों का मायाजाल रचा गया है। यह तो "बीएस फिफ्टी वन" के कलमकार का कमाल है कि पुस्तक में जो दुनिया सामने आती है, उसमें लेखक की बहारी-भीतरी दुनिया के अंधेरों-उजालों को बिना लुकाव-छिपाव के संतुलित रूप में प्रस्तुत किया गया है।
          आप और हम जिस दुनिया में रहते हैं, वह या कहें कि वैसी ही "बीएस फिफ्टी वन" की दुनिया है। रचनाओं की भाषा-शैली के मार्फत हम काफी स्थलों पर उन चेहरों को भी अपने भीतर साकार पाते हैं, जिनका व्यंग्यकार ने नाम लेकर जग-जाहिर नहीं किया है। किसी व्यंग्यकार का इरादा किसी व्यक्ति के स्थान पर उसके गुण-अवगुणों को चिह्नित करना हुआ करता है, और इसी के चलते ये रचनाएं बेशक हमारे अपने आस-पास के लेखकों कवियों की जमात से जुड़ी होकर भी ऐसे अनेकानेक व्यक्तियों समूहों और समुदायों को अपनी जद में लेती हुई प्रतीत होती है। यहां स्थानीयता के विस्तार और उसकी रक्षा में लेखकीय कौशल देख सकते हैं। "बीएस फिफ्टी वन" के निशाने पर जिन प्रमुख स्वनाम धन्य और नए-पुराने साहित्यकारों को रखा गया है उनका नामोल्लेख करना पर्दा हटाने जैसा होगा। लोकार्पण में भी तो किताब को पहले पर्दों में छिपा कर रखते हैं, फिर उसे खोला जाता है। जब लोकार्पण हो ही चुका, तो कहना होगा कि "बीएस फिफ्टी वन" की अनेकानेक दिशाओं में कुछ दिशाएं नंदकिशोर आचार्य, हरदर्शन सहगल, लक्ष्मीनारायण रंगा, मधु आचार्य ‘आशावादी’, राजेंद्र जोशी, नीरज दइया, नवनीत पाण्डे, मालचंद तिवाड़ी, गिरिराज-अनिरुद्ध और खुद बुलाकी शर्मा आदि तक आती-जाती हैं, तो वहीं बीकानेर में होने वाले अनेकानेक आयोजनों की कुछ तश्वीरों का कच्चा चिट्ठा भी यहां खुलता है।

  "बीएस फिफ्टी वन" में अलग-अलग इक्यावन व्यंग्य रचनाओं के होते हुए भी उनमें परस्पर समन्वय और सामंजस्य दिखाई देता है। यहां अफलातून और बजरंगीलाल है तो साथ ही सुखलालजी दुनिया भी है। असल में ये कुछ नाम माध्यम हैं, इसी के बल पर "बीएस फिफ्टी वन" में अनेक चेहरों को बेनकाब किया गया है। ऐसे आदरणीय नाम हमारे बीच है कि जिनके बारे में सीधे-सीधे कुछ कहना अपमान माना जा सकता है। ऐसे सभी स्थलों पर रचनाकार का उद्देश्य सीधा-सीधा उन प्रवृति को "बीएस फिफ्टी वन" से चोटिल करना रहा है, यानी मार कर उस प्रवृति से निजात दिलाना भर रहा है। हमारे आस-पास की दुनिया में हमारे घर-परिवार, मौहल्ले और पेशे के कारण सहकर्मियों के अतिरिक्त लेखन से जुड़ी दुनिया है, और कमोबेश यही दुनिया हम सबकी है। इस दुनिया में बेहद भोला और मासूस-सा सदाचारी जीव जिसे व्यंग्य-लेखक के रूप में पहचाना गया है। "बीएस फिफ्टी वन" के रचनाकार ने बडे जनत से इसे संभाल कर रखा है। यह हर छोटे-बड़े आघात में घायल होने पर भी अपनी मुस्कान बनाए रखने की आदत से पीड़ित है। इसकी सबसे बड़ी खूबी यही है कि यह अपनी मुस्कान नहीं छोड़ता। काफी जगह तो ऐसा भी हुआ है कि जिस स्थल पर "बीएस फिफ्टी वन" द्वारा अटेक किया जाना है, वहां... हां ठीक वहां.... अलग-अलग वेश बनाकर खुद ही घायल होने की त्रासदी लेखक स्वयं झेलता है। यह महज इसलिए है कि व्यक्ति जहां कहीं भी इन व्यंग्यों में नायक के रूप में गिरता है, वहां वह हारता नहीं है मुस्कुरात हुआ धूल झाड़ता हुआ उठता है, और उन बातों से दूषित मन को स्वच्छ करने का प्रयास करता है।
          यह अतिश्योक्ति नहीं होगी यदि मैं कहूं कि "बीएस फिफ्टी वन" कोई कोरी किताब जैसे किताब नहीं, वरन एक आइना है। इसमें आप और हम सभी अपना-अपना चेहरा देख सकते हैं। किसी भी व्यंग्यकार की सबसे बड़ी सफलता यही होती है कि उसके द्वारा रचित चरित्रों में हम अपना चेहरा, और अपने आस-पास की दुनिया को पहचान सकें। अलग-अलग भूगोल में इन चेहरों के नाम अलग-अलग रख दिए गए है। चेखव को याद करते हुए उनकी उसी सूरत में हम बीकानेर के बुलाकी शर्मा को देख सकते हैं।

          शीर्षक-व्यंग्य “चेखव की बंदूक” के माध्यम से उन व्यंग्य आलेखों पर चर्चा करना चाहता हूं जिनमें बहुत ही सघे सुर में व्यंग्यकार ने निशाना साधा है। राजस्थानी के प्रख्यात कहानीकर नृसिंहराज पुरोहित कहा करते थे कि व्यंग्य में तो जूते को शॉल में लपेट कर मारा जाता है। बुलाकी शर्मा इसमें भी अव्वल दर्जे के संवेदनशील व्यंग्य लेखक है, जो "बीएस फिफ्टी वन" में आकार-प्रकार के जूतों को बदलते रहते हैं और शॉल को भी।
          एक अंश देखिए : “मैं कथा उस्ताद चेखव से नहीं वरन् उन्हें जब तब ‘कोट’ करते रहने वाले अपने स्थानीय साहित्यिक उस्ताद से आतंकित रहता हूं। चेखव ने जो लिखा, उस पर चलूं अथवा नहीं चलूं, इसका निर्णय करने के लिए मैं स्वतंत्र हूं, क्योंकि चेखव बाध्य करने को उपस्थित नहीं हैं। किंतु स्थानीय उस्ताद की उपस्थिति हर जगह-हर समय रहती है और उनकी यही उपस्थिति मुझे आतंकित बनाए रखती है। उनका आतंक मुझ पर इस कदर हावी है कि नई रचना लिखते समय भी मुझे उनकी उपस्थिति का अहसास बना रहता है।”
          यहां भाषा की सहजता में उस्ताद की स्थानीयता पर जिस बल का प्रयोग हुआ है वह देखते ही बनता है। सूक्त वाक्य चेखव ने कहानी के लिए दिया तो उस वाक्य को सभी विधाओं पर लागू करने का द्वंद्व यहां है। ऐसे ही एक स्थानीय उस्ताद ने फेसबुक पर अर्ज किया कि बंदूक चलनी भी चाहिए। मेरा मानना है कि "बीएस फिफ्टी वन" के रचनाकार बुलाकी शर्मा जिस जमीर पर गोली दागते हैं, वह जमीर भी तो होना आवश्यक है। बिना जमीर के आप और हम उस अहसास को पा ही नहीं सकते कि गोलियां चली है और धना-धन चली है। होली के अवसर पर किसी रंगों की पिचकारी या बंदूक से भले आप कितने ही रंग चलाएं, कोई अंधा बनकर भला उन रंगों का क्या अहसास पा सकेगा! आंखें खोलिए और अपने भीतर के जमीर को जिंदा कर लें यही व्यंग्यकार का उद्देश्य होता है। व्यंग्यकार बुलाकी शर्मा के व्यंग्य वर्तमान समय के आचार-व्यवहार और व्यवस्थाओं को देखते-परखते हुए हमारे जमीर को मांजते हैं, वहीं उसे संवारने और सजाने का स्वपन भी देखते हैं।
-डॉ. नीरज दइया




 
 

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणी-जातरा कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देवकिशन राजपुरोहित देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी राजेन्द्र शर्मा रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित सतीश छिम्पा समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती सांवर दइया पुण्यतिथि साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

Google+ Followers