Tuesday, February 10, 2015

पत्रिका “अपरंच” के “बीकानेर-अंक” का लोकार्पण


          जोधपुर से प्रकाशित होने वाली राजस्थानी भाषा और साहित्य की त्रैमासिक पत्रिका अपरंचके बीकानेर-अंकका लोकार्पण सोमवार को प्रख्यात राजस्थानी कथाकार एवं मरवण के पूर्वसंपादक भंवर लाल भ्रमरने ढोला मारू होटल में किया। मुक्ति संस्थान द्वारा आयोजित इस कार्यक्रममेंअपने उद्बोधन में भ्रमर ने कहा कि राजस्थानी साहित्यिक पत्रकारिता आज पहले से बहुत बेहतर स्थिति में नजर आती है, जहां पहले दो-तीन पत्रिकाएं निकलती थी वहीं आज अनेक पत्रिकाएं निकल रही है और इनमें अपरंच त्रैमासिकी का अपना अलग महत्त्व है। उन्होंने बीकानेर अंक पर खुशी जाहिर करते हुए इस अंक के संपादक डॉ. नीरज दइया की साहित्यिक-पत्रकारिता के क्षेत्र में की गई सेवाओं में नेगचार पत्रिका का स्मरण करते हुए भूरी भूरी प्रशंसा की।
                कार्यक्रम के विशिष्ठ अतिथि व्यंग्यकार-कथाकार बुलाकी शर्मा ने कहा कि अपरंच के प्रधान संपादक वरिष्ठ कवि पारस अरोड़ा के निर्देशन में प्रकाशित इस पत्रिका ने अपना अलग मुकाम बनाया है। अपने अनेक स्तंभों और चयनित श्रेष्ठ रचनाओं के कारण अपरंच के हरेक अंक की प्रतीक्षा रहती है कि देखें इस बार क्या प्रकाशित हुआ है। शर्मा ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि डॉ. दइया द्वारा संपादित बीकानेर अंक भी अपनी रचनात्मकता के कारण चर्चित रहेगा।
          वरिष्ठ रंगकर्मी मधु आचार्य “आशावादी” ने अपनेअध्यक्षीय उद्बोधानमें कहा किकिसी भी पत्रिका के लिए अपने स्तर को बनाए रखने का कार्य उसमें चयनित रचनाकारों पर निर्भर करता है और मुझे खुशी है कि हमारे सक्रिय आलोचक-कवि डॉ नीरज दइया द्वार तैयार बीकानेर-अंक द्वारा पत्रिका अपने नए कलेवर को प्रगट कर रही है।
                अपरंच के "बीकानेर अंक" के संपादक आलोचक-कवि डॉ. नीरज दइया ने कहा कि इस अंक में गागर में सागर समाहित करने का प्रयास किया है, यह केवल बीकानेर के साहित्यिक परिदृश्य की बानगी मात्र है। उन्होंने कहा कि हम सभी जानते हैं कि आलोचनात्मक नजरिये से बीकानेर का स्थान सर्वोच्च है और इस अंक के संपादन के दौरान इस मान्यता को बल मिला है। उन्होंने कहा कि किसी लघु-पत्रिका के लिए यह संभव नहीं हो सकता कि बीकानेर की व्यापक और विविधवर्णी संपूर्ण साहित्यिक छवि को अपनी संपूर्ण रचनात्मकता के साथ सहेज कर प्रस्तुत कर सकें, यह अंक केवल प्रस्थान-बिंदु है जहां से हमें इस दिशा में आगे बढ़ना है।
          मुक्ति के सचिव कवि-कथाकार राजेंद्र जोशी ने कहा कि बीकानेर अंक में राजस्थानी साहित्य की सभी पीढियों के रचनाकारों की विविध विधाओं की रचनाएं इस बात का प्रमाण है कि बीकानेर का साहित्यिक परिदृश्य बेहद गरिमामय एव विशिष्ट है। उन्होंने कहा कि इस अंक की रचनाएं आधुनिक राजस्थानी राजस्थानी को समृद्ध करेगी। युवा कवि-नाटककार हरीश बी. शर्मा ने कहा कि अपरंच की अनेक विशेषताओं में इस पत्रिका के प्रधान संपादक पारस अरोड़ा की संपादकीय दृष्टि, प्रस्तुति और संयोजन को लेकर जब भी साहित्यिक पत्रिकारिता के अवदान की चर्चा होगी इसे रेखांकित किया जाएगा। कार्यक्रम में कवि-कहानीकार नवनीत पाण्डे ने कहा कि राजस्थानी में नाटकों का लेखन बहुत कम हो रहा है और अपरंच ने इस कमी को पूरा करने की दिशा में संपूर्ण नाटक प्रकाशित कर महत्त्वपूर्ण कार्य किया है।कार्यक्रम में युवा कवि जगदीश सोनी, मनोज व्यास, श्रवण कुमार आदि ने अपने विचार प्रकट किए।जोधपुर से आए अपरंच के संपादक युवा कवि गौतम अरोड़ाने आगंतुक साहित्यकारों का स्वागत किया, अंत में हिंगलाजदान रतनू ने आभार ज्ञापित किया।
-राजेंद्र जोशी,
सचिव मुक्ति, बीकानेर

               


0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणी-जातरा कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देवकिशन राजपुरोहित देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी राजेन्द्र शर्मा रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित सतीश छिम्पा समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती सांवर दइया पुण्यतिथि साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

Google+ Followers