Sunday, September 14, 2014

पुरस्कृत पोथी : जादू रो पेन बाल कहाणियां रो संगै

वडै सरोकारां री बाल-कहांणियां : जादू रौ पेन / मीठेस निरमोही

नीरज दइया राजस्थांनी रै मोट्यार लिखारां में अेक मौजू ओळख अर हैसियत राखणिया लेखक है। इतरौ ई नीं उळथणहार (अनुवादक) अर संपादक रै रूप में ई वांरी गैरी पेठ मांनीजै।
           “जादू रौ पेन” वां रौ पैलौ बाळ कहांणी संग्रै व्हैता थकां ईं केई खूबियां रै पेटै रचनाऊ ओप अर आब लियोड़ौ है। इण सूं पैली वां रौ अेक लघुकथा संग्रै- “भोर सूं आथण तांईं”,दो कविता संग्रै- “साख” अर “देसूंटो”, अेक आलोचना पोथी “आलोचना रै आंगणै”पांच भारतीय भासा-साहित्य अनुवाद री अर दो संपादित पोथियां ई छपियोड़ी है। 
          “जादू रौ पेन” में जुदा-जुदा रोचक अर प्रेरक कथानकां सूं गूंथीजियोड़ी ग्यारा बाळ कहांणियां चित्रांमां रै सैजोड़ै छपियोड़ी है। बाळकां रै घर-परिवार-समाज अर स्कूली जीवण सूं जुड़ी नैनी-मोटी बातां अर घटणा-प्रसंगां नै लेयर लिखीजी अै कहांणियां बेसक ई बाळमन री संवेदणा नै गैराई में जायर परस करै। आं कहांणियां रौ परिवेस अेकदम नुंवौ अर आधुनिक है। इण सूं ई वडी बात आ है के इण कहांणियां री धूरी में बाळक है। खासकर स्कूली बाळक। कहांणीकार डॉ. नीरज दइया खुद आप मास्टर हैसो वै बाळकां रै मनोविग्यांन नै कोरौ-मोरौ जांणै ई नींछतापण उणरी सबळी अर सांवठी ओळखांण ई राखै। अर इणरौ बखूबी प्रयोग आं कहांणियां में होयौ है। 
          “जादू रौ पेन” संग्रै री कहांणियां में बाळजीवण रै परिवेस अर उणसूं जुड़ियोड़ै जुदा-जुदा पखां अर क्लास, सहपाठी, मास्टर, स्कूल, खेल, मां-बाप, नातै-रिस्तैदारबाळक अर उणरी भूमिका इत्याद विसयां, सवालां अर आं माथै असर करणियै ततबां नै वडै मनोयोग सूं माळा रै मणियां री गळाई तार-तार पोया है। अर उतरी ई गैराई में जायर बाळकां रै मन री कंवळास, निछळता अर संवेदना रौ ई सैंपूरणता सूं चित्रण करियौ है। तौ कथा पात्रां रै मन री घाण-मथांण नै ई न्यारै-न्यारै रूपां में सांम्ही लायर कथाकार    बाळजीवण री परिस्थितिजन अबखायां रौ मनोवैग्यांनिक स्तर माथै समाधान ई करियौ है । अै कथा-पात्र वडा ई विस्वासू हैजांणै अैड़ौ लागै जिकौ कहांणी में हौ रैयौ है वौ जीवन में भेरूं ई कठैई घट रैयौ है । अै कहांणियां अेकण कांनी बाळकां रै मन-मगज नै मथती थकी वांनै चारित्रिक बदळाव सारू प्रेरित करै तौ दूजै ई कांनी वां रै मनां री पड़ता नै उघाड़ती  थकी वां रै तूटतै आतम-विसास अर विवेक नै बणायौ राखण रा जतन ई करै । साथै ई ओ सोच, आ चेतणा अर चिंतण के वां रौ हित किण में है अर किण में नीं है जगायर ई महताऊ भूमिका निभावै।
संग्रै री अै कहांणियां कोरी-मोरी उत्सुकता (बेचैनी) बधावण वाळी इज नीं हैछतापण आं रा सरोकार ई बौत वडा लागै। कहांणियां बाळकां नै मेणत अर लगन सूं पढण सारू प्रेरित करै तौ कुसंगत अर दुराचरण सूं मुगती दिरायर वांनै रचनात्मकता सूं जोड़ै । रोज रौ काम रोज करण री सीख देवै तौ गैस पेपरां रै छळावां सूं मुगती दिरायर नकल करण अर करावण रे पाप सूं बचावती थकी बाळकां नै आपरी समझ रै बूतै स्कूली कांम नै टेमसर पूरौ करण री प्रेरणा ई देवै। तौ उण मास्टरां रै सांतरा  भचीड़ मारै जिका तनख्वाह रै रूप में मोटी रकम हासिल करियां उपरांत ई बाळकां नै पढावण में कोताई बरते अर परीक्सा रै दिनां में गैस पेपर बांटर आपरै दायित्वां री इतिस्री कर लेवै। अेडै़ उण तमांम बाळकां नै जिकौ नांव अर इनांम रै खातिर स्कूली मैग्जीनां में दूजां री के चोरी री रचनावां आपरै नांव सूं छपावै के इण री चावना राखै, वां नै मनोवैग्यांनिक रूप सूं प्रोत्साहित अर प्रेरित कर मौलिक सिरजण करण सीख ई देवै। अेडै़ सगळा ई बालकां नै जिका आपरै मां-बाप रै डर सूं भली-भूंडी बातां लुकायनै आगै होयर खतरां नै न्यूंतै, वां नै आपातकाळ में वडी हुंसियारी रै साथै भूमिका निभावण री अर खेल ई खेल में अकारण ई ठोकीजण अर बदळै री भावना पालण वाळै बाळकां नै खेल री भावना सूं  खेल खेलर आपसरी में मिंतराई अर सदभाव सूं रैवण री सीख देवै। इण सूं ई वडी बात आ है के अै सगळी ई कहांणियां बाळकां नै आपरी गळतियां रौ अैसास करायर वांनै कोरा चिंतन अर मनन सारू ई प्रेरित नीं करै, छतापण वां नै सुधरण रौ गेलौ ई बतावै । 
इण तरै चरित्र निरमांण में ई खास भूमिका निभावती अै कहांणियां बाळकां में विवेक, आतम-बळआतम-विसास अर संकळप-सगती नै जगायर वां नै मैणतलगनईमांनदारी,नैतिकतासदाचारनरमाई, सच्चाई, सदभावमिंतराई अर मेळ-मिळाप जैड़ा जीवण मोलां सू जोड़ै। तौ वां नै संवेदणसीळसतगुणी अनै मांनवी ई बणावै। इतरौ ई नीं हिम्मत अर हूंस बधायर वां नै आपरै मकसदां नै पूरण सारू तैयार ई करै।
  कहांणियां रै कथ, भासा, सिल्प अर सैली री बात करां तौ सैज ई कह्यौ जा सकै के डॉ. नीरज दइया कनै अनुभवां रौ कथ रूपी अखूट खजांनौ है तौ कहांणियां सिरजण री आंट अर गत गसक ई गजब री है। भासा माथै ई वां रौ अद्भुत धणियाप है। कहांणियां री भासा रळ्यावणी अर बाळकां रै ठेठ हीयै ढूकै जैड़ी है। आपरै रचाव में कथ्य री आधुनिकता अर मौलिकताभासाई रळकाव रै सागै कविता री सघनता अर मितव्यता अनै चित्रोपमता री ओप अर आब लियां “जादू रौ पेन” री अै कहांणियां निस्चै ई राजस्थांनी बाल-साहित्य री साख नै सवाई करै ।
अेक भेर खासियत-
इण संग्रै री सिरजणा में राजस्थांनी भासा री अेकरूपता पकायत ई थूथकौ न्हाकै जैड़ी है।    

-मीठेस निरमोही
राजोला हाउस, भंवराणी हवेली परिसरउम्मेद चौकजोधपुर (राज.)

===================================================================
पुस्तक : जादू रो पेन, लेखक : डॉ.नीरज दइया, विधा : बाल कहानियां, भासा : राजस्थानी, प्रथम संस्कण : 2012, मूल्य : 50 रुपए, पृष्ठ : 56, प्रकाशक : शशि प्रकाशन मन्दिर, सादाणियों की गली, मोहता चौक, बीकानेर-334005
===================================================================





0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

लेबल

2011 2013 Dayanand Sharma INDIAN LITERATURE Neeraj Daiya अकादमी पुरस्कार अतिथि संपादक अनिरुद्ध उमट अनुवाद अनुवाद पुरस्कार अन्नाराम सुदामा अपरंच अब्दुल वहीद 'कमल' अरविन्द सिंह आशिया आईदान सिंह भाटी आकाशवाणी बीकानेर आत्मकथ्य आपणी भाषा आलेख आलोचना आलोचना रै आंगणै उचटी हुई नींद उचटी हुई नींद. नीरज दइया ऊंडै अंधारै कठैई ओम एक्सप्रेस ओम पुरोहित 'कागद' ओळूं री अंवेर कथारंग कन्हैयालाल भाटी कन्हैयालाल भाटी कहाणियां कविता कविता कोश योगदानकर्ता सम्मान 2011 कविता पोस्टर कविता महोत्सव कविता संग्रह कविता-पाठ कविताएं कहाणी-जातरा कहाणीकार कहानी काव्य-पाठ कुंदन माली खारा पानी गणतंत्रता दिवस गद्य कविता गवाड़ गोपाल राजगोपाल घोषणा चित्र चेखव की बंदूक छगनलाल व्यास जागती जोत जादू रो पेन डा. नीरज दइया डेली न्यूज डॉ. तैस्सितोरी जयंती डॉ. नीरज दइया तैस्सीतोरी अवार्ड 2015 थार-सप्तक दिल्ली दिवाली दुनिया इन दिनों दुलाराम सहारण दुलाराम सारण दुष्यंत जोशी दूरदर्शन दूरदर्शन जयपुर देवकिशन राजपुरोहित देशनोक करणी मंदिर दैनिक भास्कर दैनिक हाईलाईन सूरतगढ़ नगर निगम बीकानेर नगर विरासत सम्मान नंद भारद्वाज नमामीशंकर आचार्य नवनीत पाण्डे नवलेखन नागराज शर्मा नानूराम संस्कर्ता निर्मल वर्मा निवेदिता भावसार निशांत नीरज दइया नेगचार नेगचार पत्रिका पठक पीठ पत्र वाचन पत्र-वाचन पत्रकारिता पुरस्कार परख पाछो कुण आसी पाठक पीठ पारस अरोड़ा पुण्यतिथि पुरस्कार पुस्तक समीक्षा पोथी परख फोटो फ्लैप मैटर बंतळ बलाकी शर्मा बातचीत बाल साहित्य बाल साहित्य पुरस्कार बाल साहित्य सम्मेलन बिणजारो बिना हासलपाई बीकानेर अंक बीकानेर उत्सव बीकानेर कला एवं साहित्य उत्सव बुलाकी शर्मा बुलाकीदास "बावरा" भंवरलाल ‘भ्रमर’ भवानीशंकर व्यास ‘विनोद’ भारत स्काउट व गाइड भारतीय कविता प्रसंग भाषण भूमिका मंगत बादल मंडाण मदन गोपाल लढ़ा मदन सैनी मधु आचार्य मधु आचार्य ‘आशावादी’ मनोज कुमार स्वामी माणक माणक : जून मीठेस निरमोही मुक्ति मुक्ति संस्था मुलाकात मोनिका गौड़ मोहन आलोक मौन से बतकही युगपक्ष रजनी छाबड़ा रवि पुरोहित राज हीरामन राजकोट राजस्थली राजस्थान पत्रिका राजस्थान सम्राट राजस्थानी राजस्थानी अकादमी बीकनेर राजस्थानी कविता राजस्थानी कविताएं राजस्थानी कवितावां राजस्थानी भाषा राजस्थानी भाषा का सवाल राजेंद्र जोशी राजेन्द्र जोशी राजेन्द्र शर्मा रामपालसिंह राजपुरोहित लघुकथा लघुकथा-पाठ लालित्य ललित लोक विरासत लोकार्पण लोकार्पण समारोह विचार-विमर्श विजय शंकर आचार्य वेद व्यास व्यंग्य शंकरसिंह राजपुरोहित शतदल शिक्षक दिवस प्रकाशन श्रद्धांजलि-सभा संजय पुरोहित सतीश छिम्पा समाचार समापन समारोह सम्मान सम्मान-पुरस्कार सम्मान-समारोह सरदार अली पडि़हार सवालों में जिंदगी साक्षात्कार साख अर सीख सांझी विरासत सावण बीकानेर सांवर दइया सांवर दइया जयंति सांवर दइया जयंती सांवर दइया पुण्यतिथि साहित्य अकादेमी साहित्य अकादेमी पुरस्कार साहित्य सम्मान सुधीर सक्सेना सूरतगढ़ सृजन साक्षात्कार हम लोग हरीश बी. शर्मा हिंदी अनुवाद हिंदी कविताएं

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

कविता रो क

कविता रो क

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै

Google+ Followers