Sunday, October 12, 2008

नेगचार का लोकार्पण

राजस्थानी वेब पत्रिका नेगचार का लोकार्पण करते हुए 
प्रख्यात राजस्थानी उपन्यासकार देवकिशन राजपुरोहित

: ओळूं : 

राजस्थानी भाषण प्रतियोगिता रो एक दीठाव २० नवम्बर १९९४
चावा-ठावा कहाणीकार हरदर्शन सहगल अर मो. सद्दीक साब बिराजै
श्री मीठेस निरमोह संयोजन में प्रांतीय कथा कथा समारोह जोधपुर रो एक दीठाव
मानीता कहाणीकार करणीदान बारहठ भेळै साहित्यकारां री टीम में
महाकवि सेठिया जी सूं बंतळ
कहाणीकार बुलाकी शर्मा साथै मानीता यादवेंद्र शर्मा ‘चंद्र’ रै घरै

  2 comments:

  1. rajasthani web patrika negchar dekhi chhokhi lagi-B.S.Agarwal Mahajan

    ReplyDelete
  2. ram ram sa! web patrika 'negchar' ro pelo ank banch'r hiyo khilgyo. sgli rachnawa santri ar striy h.
    badhai. rajasthani patrika h. mool rachna ar anuwad sathe sathe chhapo to theek reve. rajasthani padharan ri hoons bhi poori hosi. SATYA NARAYAN SONI, VYAKYATA HINDI, PARLIKA (HANUMANGADH) KANABATI-9602412124

    ReplyDelete

डॉ. नीरज दइया की प्रकाशित पुस्तकें :

हिंदी में- कविता संग्रह : उचटी हुई नींद
व्यंग्य संग्रह : पंच काका के जेबी बच्चे, टांय-टांय फिस्स
आलोचना पुस्तकें : बुलाकी शर्मा के सृजन-सरोकार, मधु आचार्य ‘आशावादी’ के सृजन-सरोकार, कागद की कविताई
संपादित पुस्तकें : आधुनिक लघुकथाएं, राजस्थानी कहानी का वर्तमान, 101 राजस्थानी कहानियां, रेत में नहाया है मन (राजस्थानी के 51 कवियों की चयनित कविताओं का अनुवाद)
अनूदित पुस्तकें : मोहन आलोक का कविता संग्रह और मधु आचार्य ‘आशावादी’ का उपन्यास
शोध-ग्रंथ : निर्मल वर्मा के कथा साहित्य में आधुनिकता बोध
राजस्थानी में- कविता संग्रह : साख, देसूंटो, पाछो कुण आसी
आलोचना पुस्तकें : आलोचना रै आंगणै, बिना हासलपाई
लघुकथा संग्रह : भोर सूं आथण तांई
बालकथा संग्रह : जादू रो पेन
संपादित पुस्तकें : मंडाण (51 युवा कवियों की कविताएं), मोहन आलोक री कहाणियां, कन्हैयालाल भाटी री कहाणियां, देवकिशन राजपुरोहित री टाळवीं कहाणियां
अनूदित पुस्तकें : निर्मल वर्मा और ओम गोस्वामी के कहानी संग्रह ; भोलाभाई पटेल का यात्रा-वृतांत ; अमृता प्रीतम का कविता संग्रह ; नंदकिशोर आचार्य, सुधीर सक्सेना और संजीव कुमार की चयनित कविताओं का संचयन-अनुवाद और ‘सबद नाद’ (भारतीय भाषाओं की कविताओं का संग्रह)
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"

स्मृति में यह संचयन "नेगचार"
श्री सांवर दइया; 10 अक्टूबर,1948 - 30 जुलाई,1992

डॉ. नीरज दइया (1968)
© Dr. Neeraj Daiya. Powered by Blogger.

आंगळी-सीध

आलोचना रै आंगणै